ब्लॉगोत्सव-२०१४, चौबीसवाँ दिन, सुशांत सुप्रिय की कहानी: एक गुम-सी चोट ब्लॉगोत्सव-२०१४, चौबीसवाँ दिन, सुशांत सुप्रिय की कहानी: एक गुम-सी चोट

                                                      कैसा समय है यह                               जब बौने लोग डाल रहे हैं              ...

Read more »
11:56 AM

ब्लॉगोत्सव-२०१४, तेईसवाँ दिन, डॉ अ कीर्तिवर्धन की कविता ब्लॉगोत्सव-२०१४, तेईसवाँ दिन, डॉ अ कीर्तिवर्धन की कविता

कविता  मिलता हूँ रोज खुद से, तभी मैं जान पाता हूँ, गैरों के गम में खुद को, परेशान पाता हूँ। गद्दार इंसानियत के, जो खुद की खातिर ज...

Read more »
12:00 PM

ब्लॉगोत्सव-२०१४, सुजश शर्मा की कविताएँ ब्लॉगोत्सव-२०१४, सुजश शर्मा की कविताएँ

करूणा और अन्य भीतर करूणा कुचली जा रही और जो पाया वही दे दिया   नामालूम किससे लिया गया    किसे दिया ,    मगर भीतर...

Read more »
11:49 AM
 
Top