वह कौन है जो पहचान को गुम कर कुछ कहती है 

सुनकर भी कौन सुनेगा भला ...



 रश्मि प्रभा 

===================================================


"मैंने कहा था" उसकी जिंदगी का हिस्सा है 
ज़िन्दगी में मौजूद हर शख्स 
बस ये तीन लफ्ज़ बोलकर 
अपनी हर चिंता से मुक्त हो जाता है 
या स्वयं को शासक और उसे सेवक 
की जगह खड़ा कर देता है हर रोज़ 

सुबह से लेकर रात तक वो 
"मैंने कहा था" में उलझी रहती है 
 अब तक नहीं हुआ ये काम
मेरे जूते धुप में रखना
स्त्री के कपडे दे आना
खाने में ये बनाना
इस रिश्तेदार से एसे मिलना
उससे  एसे बात करना 
इस त्यौहार पर ये रीत निभाना
घर आँगन एसे सजाना
बच्चो को ये सब सिखाना 

और भी ना जाने कितने 
"मैंने कहा था" के साथ जुड़े वाक्य 
और कहा अधुरा रह जाने पर जुडी कडवी बात 
हर रोज वो अपने आस पास मंडराती देखती है .
अलग अलग लोग पर बस तीन शब्द 
जिन्हें बोलकर वो आज्ञा देते हैं 
और वो करती है कोशिश हर
मैंने कहा था को पूरा करने की 
सारे "मैंने " सारे "मैं" उसके आगे
 विकराल रूप धारण करते हैं
और वो हर रोज़ सोचती हैं
वो भी तो कुछ कहती है
कभी सुना है किसी ने ? 

कनुप्रिया गुप्ता 

17 comments:

  1. और वो हर रोज़ सोचती हैं
    वो भी तो कुछ कहती है
    कभी सुना है किसी ने ?
    GAHAN RACHNA ...
    BADHAI kANUPRIYA JI .

    ReplyDelete
  2. सुबह से शाम तक है बिज़ीbusy ....

    पत्नी-बहु-माँ होना है ईज़ीeasy ....

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. मैंने कहा था को पूरा करने की
    सारे "मैंने " सारे "मैं" उसके आगे
    विकराल रूप धारण करते हैं
    और वो हर रोज़ सोचती हैं
    वो भी तो कुछ कहती है
    कभी सुना है किसी ने ?


    वो सुनने की किसी के पास फ़ुर्सत कहाँ ?

    ReplyDelete
  6. sach may ye har ek grihani ki rachna....sab ye teen shabd bol kar mukt ho jate hain par jo pura karne ki koshish karta hai....uski vyatah ya uskay vichar koi nahi samjhta

    ReplyDelete
  7. सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  8. oh thanks rashmi aunty aapne to badi purani kavita dhoondh nikali mere blog..sach me ek baar to laga ye maine hi likhi thi shayad kabhi....ajeeb hai na...bahut bahut dhanyawad aapka...:)

    ReplyDelete
  9. Dr. Rama Dwivedi
    bahut sach aur bhaavpoorn rachna ....

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्दर ! इस 'मैंने कहा था' की भूल भुलैया में मध्यम वर्ग की हर नारी उलझी हुई है और शायद हमेशा इसी तरह उलझी रहेगी ! इतनी बेहतरीन प्रस्तुति के लिए बधाई !

    ReplyDelete
  11. सही है ये मैंने कहा था .न जाने कब ख़त्म होगा

    ReplyDelete
  12. बेहतर प्रस्तुति !!

    ReplyDelete
  13. 'मैंने कहा था', के जरिये बहुत सुन्दर शब्द-चित्र

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete

 
Top