सोच से जो कुछ था बहुत दूर 
वह है आज - 
ये है यंग इंडिया .........

रश्मि प्रभा 
=================================================================
कल तक जो था नामुमकिन,
उसको भी आसान कर दिया;
जोश और जूनून से भरी,
यह है नई यंग इंडिया।

हर रोज नई तरकीब निकाले,
हर रोज नया एक खोज करे;
शार्टकट में हर काम करने वाली,
यह है नई यंग इंडिया।

पीढियों की जिंदगी से उब सी चुकी,
लोअर लिविंग को गुड बाय कह दिया;
नयापन और नई ताजगी के साथ,
यह है नई यंग इंडिया।

जातिवाद, धर्मभेद नहीं कुछ,
हर नियम को लगभग बदल ही दिया;
अलग सोच के साथ बिल्कुल मनमौजी,
यह है नई यंग इंडिया।

अपनी सभ्यता रास न आती,
पाश्चात्य को ही अपना बना लिया;
फैशन और चकाचौंध की मारी,
यह है नई यंग इंडिया।

दोस्ती के नए तरीके और बहाने खोजती,
मोबाइल और नेट से ही सबकुछ कर लिया;
विपरीत लिंग के पीछे पागल-सी,
यह है नई यंग इंडिया।

गंभीरता नाम की अब चीज़ न कोई,
मस्ती को ही फितरत कर लिया;
क्रिकेट और फिल्मों की दीवानी,
यह है नई यंग इंडिया।

ई. प्रदीप कुमार साहनी

4 comments:

  1. कल तक जो था नामुमकिन,
    उसको भी आसान कर दिया;
    जोश और जूनून से भरी,
    यह है नई यंग इंडिया।..sahi likha hai ..jo ab tak nahi huaa to use karke dikha diya ..यह है नई यंग इंडिया।.

    ReplyDelete
  2. गंभीरता नाम की अब चीज़ न कोई,
    मस्ती को ही फितरत कर लिया;
    क्रिकेट और फिल्मों की दीवानी,
    यह है नई यंग इंडिया।

    दिल्ली में मस्ती को दरकिनार कर
    गंभीरता दिखा एक नई जंग की
    राह बता गई नई यंग इंडिया।

    ReplyDelete
  3. परम आदरणीय रश्मि जी का हार्दिक आभार जिन्होने मेरी इस रचना को यहाँ स्थान दिया |
    ये रचना मैंने कॉलेज के शुरुवाती दिनों में लिखी थी इसलिए हो सकता है बहुत सारी त्रुटियाँ भी हो |

    ReplyDelete

 
Top