आजकल ....
न तुम, न मैं ... सिर्फ प्रतिस्पर्धा है घरों - दीवारों पर 
लम्बी गाड़ियां काले शीशेवाले 
टचस्क्रीन मोबाइल 
ब्रांडेड कपड़े 
प्रसाधनों के बीच असलियत है ही नहीं 
हाय ............. अब हम कहाँ और तुम कहाँ !




रश्मि प्रभा 
===============================================================
कुछ घुल गया है पानी में,
है  दूषित कर गया 
कोई चमन की  हवा को 
न जाने क्या..शायद कोई 
नया रोग सा लगा है 
इस ज़माने को 

नोचने में कमीजें 
एक - दूसरे की

खुश हो रहे हैं 
लोग कई


बचने की कोशिश में 
जो छुपे किसी  के पहलू में
हैं उनकी चादरें
पहले से कालिख में सनी हुईं

जिधर देखो
रंगे सियारों की
फ़ौज सी खड़ी है

किसके साथ खड़ा होऊं?
आज नहीं तो कल ..
रंग तो सबकी उतरी है

काट कर
बांटने में
व्यस्त हैं जोडने वाले
जो हैं समर्थ
ओढ़ कर मुफलिसी
जड़ रखे हैं 
खुद  के मुंह पर ताले

ऐ खुदा , हे भगवान !
मत हँस..इन गरीबों पर
रहम कर 
भेज कोई रसूल अपना
बहुत हो चुका...
अब सब्र नहीं होता ,
खुद से अपनो का इलाज नहीं होता !!
My Photo 


संतोष कुमार 

9 comments:

  1. बहुत अच्छी रचना , हरिहरन का एक गाना याद आ गया -
    krishna ni begane baro .

    http://www.youtube.com/watch?v=AjejkI1xZPY

    सादर

    ReplyDelete
  2. भेज कोई रसूल अपना
    बहुत हो चुका...
    अब सब्र नहीं होता ,
    खुद से अपनो का इलाज नहीं होता !!

    ReplyDelete
  3. कुछ घुल गया है पानी में,
    है दूषित कर गया
    कोई चमन की हवा को
    न जाने क्या..शायद कोई
    नया रोग सा लगा है
    इस ज़माने को
    बिल्‍कुल सही ...
    उत्तम चयन एवं सशक्‍त प्रस्‍तुति
    आभार आपका

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन रचना, आभार

    ReplyDelete
  5. bahut achhaa lag rahaa hai prakashit rachnaaon ko padh kar aapkee lagn aur karmathtaa ko naman

    ReplyDelete

 
Top