हे ईश्वर !तुम्हारे द्वारा दिया गया आँखों का पानी ,
कभी नहीं बहाया मैंने आंसू बना कर 
 ,
सुरक्षित रखा इक शर्म के लिए मात्र !

हे ईश्वर !
मैं सच कहता हूँ
हर घर से विसर्जित होती नालियों में
मैंने वो ही पानी देखा
अन्दर हर घर के उस शर्म को बेशर्म होते देखा !

काश !
मैं तुम्हारे लिए खुद को सुरक्षित रख पाता !
जैसा तुमने भेजा था निर्मल और स्वच्छ ,
वैसा तुम तक लौट पाता ....................

हाँ !
मैं केवल तुम्हारा आलिंगन चाहता हूँ ,
मगर अभी नहीं !
मुझे अपने ऊपर लगाए तमाम कीचड़ साफ़ करने की क्षमता दो ईश्वर ,
जिस -जिस ने भी मुझे कीचड़ लगाया
उनके हाथ भी साफ़ करना ईश्वर
ताकि जब भी वो तुमसे क्षमा मांगने हेतु हाथ जोड़े
तो कम से कम हाथ साफ़ व स्वच्छ हो उनकें !

मैं नहीं जानता हे ईश्वर तुम्हारे निराकार में समाहित आकार को
अगर जानता तो उस आकार में तुम्हारी गोद ख़ोज लेता
जहां मैं दुबक कर - सिमट कर बैठता
और तुम्हारे हाथों का स्पर्श सर पे महसूस करता !!

तुम्हारे बारे में लिखे पुराण और कुरआन
दोनों को लड़ते रक्त- रंजित होते देखा
क्या ऐसा संसार मंजूर था तुम्हे ?
शायद नहीं ........
तभी तो सर्वज्ञ मानने के बावजूद
ये भी जानते हैं
कि तुम हो ही नहीं इस संसार में !
अगर होते तो
श्रृन्गारित होती हमारी आत्माएं प्रेम से !!

हे ईश्वर !
मेरा आमन्त्रण है तुम्हे -
आओ अपनी बनाई इस दुनिया में !
मगर किसी रूप में न आना
ना ही शब्दों और किताबों में आना
आना तो हमारी आँखों में पानी बन कर आना
जो संभाल रखे तुम्हे , उसी का हो के रह जाना !! 

 -- तनु थदानी   
    
दीमापुर  { नागालैंड }

6 comments:

  1. बेहतरीन भावों का संगम ...

    ReplyDelete
  2. सुंदर भाव !
    ~सादर !

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  4. विनीत ,उर्जमय सृजन .....शुभकामनयें जी

    ReplyDelete
  5. आप सबों का दिल से आभारी हूं..........

    ReplyDelete

 
Top