जब मंद पवन के झोंके से 
तरु की डाली हिलती है 
पंछी  के  कलरव से 
कानों में मिश्री घुलती है 
तब लगता है कि तुम 
यहीं - कहीं हो 

जब नदिया की कल - कल से 
मन स्पंदित होता है 
जब सागर की लहरों से 
तन  तरंगित  होता है 
तब लगता है कि तुम 
यहीं - कहीं हो 

रेती का कण - कण भी जब 
सोने सा दमकता  है 
मरू भूमि में भी जब 
शाद्वल * सा  दिखता है 
तब लगता है कि तुम 
यहीं - कहीं हो 

बंद पलकों पर भी जब 
अश्रु- बिंदु चमकते हैं 
मन के बादल   घुमड़ - घुमड़ 
जब इन्द्रधनुष सा रचते हैं 
तब लगता है कि तुम 
यहीं कहीं हो ...यहीं कहीं हो .
  
संगीता  स्वरुप 

परिचय :
 

जन्म :             ७ मई १९५३ 
जन्म स्थान:     रुड़की ( उत्तर प्रदेश ) 
शिक्षा :             स्नातकोत्तर ( अर्थशास्त्र )
व्यवसाय :       गृहणी ( पूर्व में केन्द्रीय विद्यालय में शिक्षिका रह चुकी हूँ )
शौक :              हिंदी साहित्य पढ़ने का , कुछ टूटा फूटा अभिव्यक्त भी कर लेती हूँ 
निवास स्थान:  दिल्ली 
 
ब्लोग्स -----------      http://geet7553.blogspot.com/ 
                           http://gatika-sangeeta.blogspot.com/
 
 प्रकाशित पुस्तक --- उजला आसमां ( काव्य संग्रह) 

15 comments:

  1. मरू भूमि में भी जब
    शाद्वल सा दिखता है
    तब लगता है कि तुम
    यहीं - कहीं हो

    मन:स्थिति का और एहसास का खूबसूरती से बयाँ

    ReplyDelete
  2. bahut khoobasoorat post, sundar

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत अहसासो से लबरेज रचना

    ReplyDelete
  4. बहुत ही खूबसूरत भावो के साथ ...........दिल को छूती रचना !

    ReplyDelete
  5. अनुपम रचना संगीता जी ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  6. bahut acchi rachna jivant prastuti.....

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २६/६ १२ को राजेश कुमारी द्वारा
    चर्चामंच पर की जायेगी

    ReplyDelete
  8. SEEDHE - SAADE SHABDON MEIN SEEDHE -
    SAADE BHAAV MAN KO CHHOO GAYE HAIN .

    ReplyDelete
  9. बहुत भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर ....कोमल भावपूर्ण रचना ....

    ReplyDelete
  11. क्या कहने ...
    दिल को छू लेनेवाली रचना...
    बहुत सुन्दर...
    :-)

    ReplyDelete
  12. हर बात से लगता है तुम हो , यही हो ...
    सुन्दर !

    ReplyDelete
  13. वाह! बहुत सुन्दर गीत दी...
    सादर बधाई स्वीकारें.

    ReplyDelete

 
Top