हौसले ज़िन्दगी का सबब हैं
हौसला है तो ही मंजिल है ...

रश्मि प्रभा

======================================================
मत पूछ मेरे हौसलों की हदों के बारे में

मत पूछ मेरे हौसलों की हदों के बारे में,
ये वो पंछी हैं, जो जानते ही नहीं सरहदों के बारे में !
उड़ते रहते हैं ये निरंतर ख्वाहिशो के आसमानों में,
और बाज नहीं आते कभी तकदीर को आजमाने से !

रूठ जाती हैं तकदीरे कभी, बदल जाता हे वक़्त भी
दगा देते हैं इंसा अपने, दिक्क़ते देती उम्र भी
बस ये हौसले ही हैं जो कभी रुठते नहीं
हारती हैं ज़िंदगियाँ पर ये कभी हारते नहीं

मत पूछ क्या हासिल हैं इन हौसलों की वजह से
ये वो पंछी हैं, टिका हैं आसमा जिनकी वजह से
ढूंड लाते हैं ये रोजाना ज़िन्दगी का दाना
और भूलकर सारे गम गाते हैं मस्ती का तराना

आया था इक दिन जब हार गए थे ये हौसले
कट गए थे पर इनके, टूट गए थे घौसले
लग रहा था अब न उड़ सकेगी ये कोपले,
पर अगले दिन फिर निकल पड़े ये तिनको को धुंडने
एक-एक तिनका बीनकर, लगे फिर आशियाना जोड़ने

मत पूछ उस दिन इन हौसलों की हालत के बारे में
कुछ सोच ही नहीं रहे थे ये उस दिन राहत के बारे में
उड़ रहे थे उस दिन ये उम्मीद के आकाश में
आसुओं को पौछ्कर आशियाने की तलाश में

ये हौसले भी किसी हकीम से कम नहीं होते हैं,
हर तकलीफ को ताक़त बना देते हैं,
और दर्द से भी दवा चुरा लेते हैं !
एक ख्वाहिश टूटे तो हज़ार ख्वाब सजा लेते हैं,
और छोटी-छोटी कोशिश से मुक़द्दर बना देते हैं !

मत पूछ क्या हाल होगा इन हौसलों के न होने से
मर जाता हैं पंछी कोई पिंजरों में क़ैद होने से
मोह नहीं रहता उसे न खाने में न जीने में
और मर जाती हैं तमन्ना उड़ने की फडफड़ाकर सीने में

मत पूछ मेरे हौसलों की हदों के बारे में,
ये वो पंछी हैं, जो जानते ही नहीं सरहदों के बारे में !
उड़ते रहते हैं ये निरंतर ख्वाहिशो के आसमानों में,
और बाज नहीं आते कभी तकदीर को आजमाने से !

My Photo




अंकित सोलंकी

12 comments:

  1. बस ये हौसले ही हैं जो कभी रुठते नहीं
    हारती हैं ज़िंदगियाँ पर ये कभी हारते नहीं

    ला जवाब और प्रेरक रचना!! आभार

    ReplyDelete
  2. मत पूछ क्या हासिल हैं इन हौसलों की वजह से
    ये वो पंछी हैं, टिका हैं आसमा जिनकी वजह से
    बहुत खूब ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्ररना देती रचना। अंकित जि को बधाई

    ReplyDelete
  4. हौसले भी किसी हकीम से कम नहीं होते हैं,
    हर तकलीफ को ताक़त बना देते हैं,
    और दर्द से भी दवा चुरा लेते हैं !
    एक ख्वाहिश टूटे तो हज़ार ख्वाब सजा लेते हैं,
    और छोटी-छोटी कोशिश से मुक़द्दर बना देते हैं !
    वाह ,बहुत खूब .... उत्तम प्रस्तुति .... !!
    इस हौसले से तो संसार हौसला से परिपूर्ण हो जाए .... !!

    ReplyDelete
  5. मत पूछ मेरे हौसलों की हदों के बारे में,
    ये वो पंछी हैं, जो जानते ही नहीं सरहदों के बारे में !
    उड़ते रहते हैं ये निरंतर ख्वाहिशो के आसमानों में,
    और बाज नहीं आते कभी तकदीर को आजमाने से !
    bahut hi sundar prerna dayi rachna 1

    ReplyDelete
  6. भरपूर हौसला साथ लिए, जोखिम को तत्पर भैया ।
    ख्वाहिश है आकाश सरीखी, बाधा लेती रही बलैया |

    दर्द दवा से रहे चुराते, तकलीफें ताकत बनती -
    देख हौसले मेरे ऊंचे, तक़दीर कहे दैया रे दैया ||

    ReplyDelete
  7. प्रेरक रचना...
    सादर.

    ReplyDelete
  8. त्वरित टिप्पणी से सजा, मित्रों चर्चा-मंच |
    छल-छंदी रविकर करे, फिर से नया प्रपंच ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.in

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रेरक रचना...

    ReplyDelete
  10. पंख होने से कुछ नहीं होता...हौसलों से उड़ान होती है...

    ReplyDelete
  11. सभी पाठको को सादर धन्यवाद् ...आपकी प्रशंसा मेरे लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं..धन्यवाद् रश्मि जी - अंकित सोलंकी

    ReplyDelete
  12. आया था इक दिन जब हार गए थे ये हौसले
    कट गए थे पर इनके, टूट गए थे घौसले
    लग रहा था अब न उड़ सकेगी ये कोपले,
    पर अगले दिन फिर निकल पड़े ये तिनको को धुंडने
    एक-एक तिनका बीनकर, लगे फिर आशियाना जोड़ने
    .........Really nice.....

    ReplyDelete

 
Top