बुद्ध .........कौन ?  सिर्फ एक व्यक्तित्व या उससे भी इतर कुछ और ?

एक प्रश्न जिसके ना जाने कितने उत्तर सबने दिए. यूँ तो सिद्धार्थ नाम जग ने भी दिया और जिसे उन्होंने सार्थक भी किया । सिद्ध कर दे जो अपने होने के अर्थ को बस वो ही तो है सिद्धार्थ। और स्वयं को सिद्ध करना और वो भी अपने ही आईने में सबसे मुश्किल कार्य होता है मगर मुश्किल डगर पर चलने वाले ही मंजिलों को पाते हैं और उन्होंने वो ही किया मगर इन दोनों रूपों में एकरूपता होते हुए भी भिन्नता समा ही गयी जब सिद्धार्थ खुद को सिद्ध करने को अर्धरात्रि में बिना किसी को कुछ कहे एक खोज पर चल दिए  अपनी खोज को पूर्णविराम भी दिया मगर क्या सिर्फ इतने में ही जीवन उनका सार्थक हुआ ये प्रश्न लाजिमी है . यूँ तो दुनिया को एक मार्ग दिया और स्वयं को भी पा लिया मगर उसके लिए किसी आग को मिटटी के हवाले किया , किसी की बलि देकर खुद को पूर्ण किया जिससे ना उनका अस्तित्व कभी पूर्ण हुआ। हाँ पूर्ण होकर भी कहीं ना कहीं एक अपूर्णता तो रही जो ना ज़माने को दिखी मगर बुद्ध बने तो जान गए उस अपूर्णता को भी और नतमस्तक हुए उसके आगे क्यूँकि बिना उस बेनामी अस्तित्व के उनका अस्तित्व नाम नहीं पाता , बिना उसके त्याग के वो स्वयं को सिद्ध ना कर पाते। इस पूर्णता में , इस बुद्धत्व में कहीं ना कहीं एक ऐसे बीज का अस्तित्व है जो कभी पका ही नहीं , जिसमे अंकुर फूटा ही नहीं मगर फिर भी उसमे फल फूल लग ही गए सिर्फ और सिर्फ अपने कर्त्तव्य पथ पर चलने के कारण , अपने धर्म का पालन करने के कारण ........नाम अमर हो गया उसका भी । हाँ .......उसी का जिसे अर्धांगिनी कहा जाता है। आधा अंग जब मिला पूर्ण से तब हुआ संपूर्ण वो ही थी वास्तव में उनके पूर्णत्व की पहचान। एक दृष्टिकोण ये भी है इस पूर्णता का , इस बुद्धत्व का जिसे हमेशा अनदेखा किया गया 




पूर्णत्व की पहचान हो तुम





यधोधरा
तुम सोचोगी
क्यो नही तुम्हे
बता कर गया
क्यो नही तुम्हे
अपने निर्णय से
अवगत कराया
शायद तुम ना
मुझे रोकतीं तब
अश्रुओं की दुहाई भी
ना देतीं तब
जानता हूँ
बहुत सहनशीलता है तुममे
मगर शायद
मुझमे ही
वो साहस ना था
शायद मै ही
कहीं कमजोर पडा था
शायद मै ही तुम्हारे
दृढ निश्चय के आगे
टिक नही पाता
तुम्हारी आँखो मे
देख नही पाता
वो सच
कि देखो
स्त्री हूँ
सहधर्मिणी हूँ
मगर पथबाधा नही
और उस दम्भ से
आलोकित तुम्हारी मुखाकृति
मेरा पथ प्रशस्त तो करती
मगर कहीं दिल मे वो
शूल सी चुभती रहती
क्योंकि
अगर मै तुम्हारी जगह होता
तो शायद ऐसा ना कर पाता
यशोधरा
तुम्हे मै जाने से रोक लेता
मगर तुम्हारा सा साहस ना कहीं पाता
धन्य हो तुम देवी
जो तुमने ऐसे अप्रतिम
साहस का परिचय दिया
और मुझमे बुद्धत्व जगा दिया
मेरी जीवत्व से बुद्धत्व तक की राह में
तुम्हारा बलिदान अतुलनीय है
गर तुम मुझे खोजते पीछे आ गयीं होतीं
तो यूँ ना जन कल्याण होता
ना ही धर्म उत्थान होता
हे देवी !मेरे बुद्धत्व की राह का
तुम वो लौह स्तम्भ हो
जिस पर जीवों का कल्याण हुआ
और मुझसे पहले पूर्णत्व तो तुमने पा लिया
क्योंकि बुद्ध होने से पहले पूर्ण होना जरूरी होता है
और तुम्हारे बुद्धत्व में पूर्णत्व को पाता सच
या पूर्णत्व में समाहित तेजोमय ओजस्वी बुद्धत्व
तुम्हारी मुखाकृति पर झलकता
सौम्य शांत तेजपूर्ण ओज ही तुम्हारी
वो पहचान है जिसे गर मैं
तुम्हारी जगह होता
तो कभी ना पा सकता था
हाँ यशोधरा ! नमन है तुम्हें देवी
धैर्य और संयम की बेमिसाल मिसाल हो तुम
स्त्री पुरुष के फर्क की पहचान हो तुम
वास्तव में तो मेरे बुद्धत्व का ओजपूर्ण गौरव हो तुम
नारी शक्ति का प्रतिमान हो तुम
बुद्ध की असली पहचान हो तुम ........सिर्फ तुम



वन्दना गुप्ता 

11 comments:

  1. वंदना जी की यह कविता पहले भी पढ़ चुकी हूं उनके ब्लॉग पर.. उनकी बेहतरीन कविताओं में एक।

    ReplyDelete
  2. आप का ब्लॉग पढ़ा काफी अच्छा लगा जरा इसे भी देखें Vipassana Meditation जिसे खोजा था भगवान महत्मा बुध ने, http://www.bharatyogi.net/2012/04/vipassana-meditation.html

    ReplyDelete
  3. सुंदर रचना...........
    वंदना जी के ब्लॉग पर पढ़ चुकी हूँ ....
    दोबारा पढ़ना भी अच्छा लगा..

    सादर.

    ReplyDelete
  4. इस बेहतरीन प्रस्‍तुति का आभार ।

    ReplyDelete
  5. यशोधरा का त्याग सचमुच महान था इसीलिए आज बुद्ध के साथ साथ ही उसका भी नाम अमर हो गया है...

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
    लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. हार्दिक आभार कविता को यहाँ स्थान दिया।

    ReplyDelete
  8. Kabhi is angle se socha bhi na tha!! Vandana ji ki rachnayen waakayi bahut goodh aur darshan se paripoorn ho ti hain!
    Saadar!

    ReplyDelete

 
Top