होशियारी सीखी या नहीं
अनाड़ी हो कि नहीं ... इससे परे
बच्चे बन जाओ
मिलजुल रहो , हंसो , मासूम सपने देखो
न किसी ध्यान की ज़रूरत होगी
न योग की ... बचपन है तो सब है ...




रश्मि प्रभा



===========================================================
सीखा है हमने...


नन्हें मुन्नों संग खिलखिलाना सीखा है हमने
उनकी मासूमियत अपनाना सीखा है हमने|१|

मिट गए सारे रंजो-गम पल भर के लिए
उनसे सच्छाई आज़माना सीखा है हमने|२|

अहं को परे रख दिया दोस्ती के लिए
उन-सा ही सब कुछ भुलाना सीखा है हमने|३|

चोट लगी ज़ार ज़ार रो पड़े थे हम
रोते-रोते हँसने की कला भी सीखा है हमने|४|

कागज़ों पर आड़ी सीधी रेखाएँ खींचते हैं वो
उनसे उल्टे सीधे शब्द सजाना सीखा है हमने|५|

भा जाती हैं बच्चों की चुलबुली आँखें
गंभीरता के बीच शरारतें भी सीखा है हमने|६|


ग़ल्तियाँ हो जाएँ सर झुका लेते हैं वो
उनसे भूल को स्वीकारना सीखा है हमने|७|

घंटी लगी, आजादी का शोर गूँजा
उनके बीच अपना सुर मिलाना सीखा है हमने|८|
ऋता शेखर 'मधु'

ऋता शेखर ‘मधु’

13 comments:

  1. ग़ल्तियाँ हो जाएँ सर झुका लेते हैं वो
    उनसे भूल को स्वीकारना सीखा है हमने
    बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  2. जहाँ से जो भी अच्छा मिला...सीखा ही है हमने...सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  3. सुन्दर सीख देती सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  4. सुंदर सुर मिले आज ...
    बधाई एवं शुभकामनायें ...!!

    ReplyDelete
  5. वाह! यह तो बहुत ही अच्छी रचना है... आनंद आ गया...
    सादर आभार/बधाई.

    ReplyDelete
  6. सुन्दर और मासूम अभिलाषा!!

    ग़ल्तियाँ हो जाएँ सर झुका लेते हैं वो
    उनसे भूल को स्वीकारना सीखा है हमने|७|

    ReplyDelete
  7. बचपन है तो सब है ...BACHPAN KE DIN BHI KYA DIN HAE, JO AB LAUT NAHIN AAPAYENGE

    ReplyDelete
  8. अच्छा सीखने की कोशिश इंसानियत को पाने की कोशिश है .......ऐसी कोशिशें जारी रहनी चाहिए !

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी है मासूमियत से भरपूर

    ReplyDelete

 
Top