दुआ 
वो हर पल खुदा से 
अपने प्यार की  सलामती की 
दुआ करता है 
हर लम्हा उसकी  ख़ुशी
 की फ़रियाद करता है 
दिन - रात उसकी  इक हँसी
 के लिए 
आंसू बहाता है 
खुदा कहता है, 
"ए बन्दे , मैंने तेरी झोली में 
तेरा प्यार दिया जो 
तूने मुझसे माँगा, 
अब मै क्या कर सकता हूँ ?
जो करना है तूँ कर 
प्यार की ताकत के आगे तो 
मै भी बेबस और लाचार हूँ 
हिम्मत है तो 
 कर हिफाजत अब अपने 
प्यार की 
निभाने का हौंसला  रख 
फूल के साथ कांटे भी चुन
अमृत के साथ विष भी पी 
फिर देख मै तेरे साथ हूँ 
My Photoउसकी ख़ुशी भी तूं गम भी तूँ 
हँसी भी तूँ आंसूं भी तूँ 
सलामती भी तूं ,
तकदीर  भी तूँ , 
वफ़ा  भी तूँ ,जफा भी तूँ  "


() अलका सैनी 

11 comments:

  1. वाह ……………क्या बात है …………बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. निभाने का हौंसला रख
    फूल के साथ कांटे भी चुन
    अमृत के साथ विष भी पी
    फिर देख मै तेरे साथ हूँ
    इसलिए तो कहा जाता है ,जो अपनी मदद करते है ,उनकी भगवान् भी मदद करते है... !!

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  4. bhagvaan sukh ki ahamiyat samjhane ke liye hi dukh dete hain phoolon ke sang kaate dete hain.bahut sarthak prastuti.

    ReplyDelete
  5. उसकी ख़ुशी भी तूं गम भी तूँ
    हँसी भी तूँ आंसूं भी तूँ
    सलामती भी तूं ,
    तकदीर भी तूँ ,
    वफ़ा भी तूँ ,जफा भी तूँ "waah..............

    ReplyDelete
  6. वाह!!

    निभाने का हौंसला रख
    फूल के साथ कांटे भी चुन
    अमृत के साथ विष भी पी
    फिर देख मै तेरे साथ हूँ ...
    बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर कविता !

    ReplyDelete

 
Top