पावन शब्द
अवर्णनीय प्रेम
सदा रहेंगे।


सहेजते हैं
सपने नाजुक से
टूट न जाएं।


जीवंत रहे
राधा-कृष्ण का प्रेम
अलौकिक सा।


फिल्मी संस्कृति
पसरी हर ओर
कामुक दृश्य


अपसंस्कृति
टूटती वर्जनाएँ
विद्रूप दृश्य


ये स्वछंदता
एक सीमा तक ही
लगती भली.

कृष्ण कुमार यादव  
My Photo


संपर्क :- कृष्ण कुमार यादव, निदेशक डाक सेवा, अंडमान व निकोबार द्वीप समूह, पोर्टब्लेयर-744101
 kkyadav.y@rediffmail.com

12 comments:

  1. "जीवंत रहे
    राधा-कृष्ण का प्रेम
    अलौकिक सा।"

    " उपर्युक्त " आज के लिए बहुत ख़ास.... !! और शानदार हाइकू.... :)

    ReplyDelete
  2. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    कल 15/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है !
    क्‍या वह प्रेम नहीं था ?

    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  3. अच्छी हाईकू रचनाएं... वाह!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  5. प्यार की अनूठी पेशकश

    ReplyDelete
  6. सुन्दर हायेकु...

    ReplyDelete
  7. जीवंत रहे
    राधा-कृष्ण का प्रेम
    अलौकिक सा। yhi prem sansar ko shi disha deta hai.bahut achchi abhivyakti.

    ReplyDelete
  8. कोमल भावनाएं.. असली प्रेम आजकल कहीं खो सा गया है

    ReplyDelete

 
Top