स्वीकार करो स्वीकार करो

अनुभवों की चाभी अपनी होती है आगत के लिए ख़ास होती है ... रश्मि प्रभा ========================================...

Read more »
11:36 AM

मैं कुंदन हो जाउंगी मैं कुंदन हो जाउंगी

पकड़ लो हाथ जो एक पल के लिए मैं तराशी जाऊँगी ........ अपनी निगाहों में अनमोल हो जाऊँगी रश्मि प्रभा ================================...

Read more »
10:52 AM

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः

ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ म पर्वतों की चोटियों से शैलपुत्री का रूप लिए दसों दिशाओं से मुखरित सिंहासिनी धरती पर आशीष बन अवतरित ह...

Read more »
1:24 PM

अवैध अवैध

कर्म , उपदेश , परिणाम चीख चीख कर सत्य बताते हैं सुनते सभी हैं , पर करते वही हैं - जिसमें उनकी दिलचस्पी होती है ! रश्मि प्रभा =======...

Read more »
10:38 AM

आदत आदत

एक ज़रूरत होना भी प्यार है पर इज़हार आदत न होकर प्यार ही हो तो थकी रूह को पंख मिल जाते हैं रश्मि प्रभा ================================...

Read more »
10:00 AM

मेरी मधुशाला ………. मेरी मधुशाला ……….

मेरी तेरी उसकी मधुशाला आँखों से देखो छलके हाला ... रश्मि प्रभा =============================================================== मेरी मध...

Read more »
10:42 AM

मेरा पुराना घर मेरा पुराना घर

पुरानी यादों में ज़िन्दगी कितनी सुन्दर नज़र आती है खोये खोये रिश्तों की खुशबू पास बुलाती है रश्मि प्रभा ============================...

Read more »
10:24 AM

समंदर का सूरज समंदर का सूरज

अमृत की कई बूंदें थीं तेरे नाम में जिसने तेरा नाम लिया - अमरत्व पा गया रश्मि प्रभा ==================================================...

Read more »
11:00 AM

हाँ सर क्या लेंगे आप ! हाँ सर क्या लेंगे आप !

एक दिन की शहंशाही में कुछ अलग सा स्वाद दुनिया गोल है पैसे का मोल है और मुंह में पानी है.... रश्मि प्रभा  ============================...

Read more »
10:25 AM

चलो लिख डालें एक कविता चलो लिख डालें एक कविता

मन तो चिड़िया है पंख खोले उड़ान भरता जाता है चोच में भावनाओं के दाने लिए घोसले में उतरता है और तिनकों पर लिखता है - कविता रश्मि प्रभा ...

Read more »
11:34 AM

कविता का शौक कविता का शौक

घर की चौखट घर के भीतर ... भावों के संस्कार शब्द शब्द में ढलकर हवाओं में घुलते रहे ... देखते देखते हम कवि हो गए रश्मि प्रभा कविता ...

Read more »
11:38 AM

छुट्टे नहीं हैं(लघु हास्य कथा ) छुट्टे नहीं हैं(लघु हास्य कथा )

समय की नाजुकता नहीं जानी तो होगी सिर्फ हानि .... रश्मि प्रभा =====================================================================...

Read more »
11:00 AM

भूत हमें रोटी देता है , और आपको ..... भूत हमें रोटी देता है , और आपको .....

जूनून ना हो साथ में तो मंजिल भी नहीं होती पास में ... रश्मि प्रभा ==================================================================...

Read more »
10:54 AM
 
Top