एक ज़रूरत होना भी प्यार है
पर इज़हार आदत न होकर प्यार ही हो
तो थकी रूह को पंख मिल जाते हैं


रश्मि प्रभा
===================================================================
आदत


गाल पर हाथ रख ,मुस्कुराते हुए ,
उसने कहा.......
अब तुम्हारी आदत सी हो गयी है
तो हमने भी मुस्कुरा कर यही कहा ...
न हूँ मैं सुबह की भाप उड़ाती एक प्याला चाय ,
न रबरबैंड में लिपटा बरामदे में फेंका अखबार ,
ऐसा भी तो कह सकते थे ....
अब तुम्हारा साथ अच्छा लगता है ,
बिन बात यूँ ही खिलखिलाना ,
कुछ कहते - कहते रुक जाना ,
एक साथ बोलना या ,
अचानक चुप हो जाना ,
बस एकटक देखना
क्या है जो यकायक ,
रोक देता है...
क्यों नहीं कह पाते,
मन की परतों मे है जो दबा ,
कुछ अनकहा - अनछुआ सा ,
जो हमेशा हवा में टंगा रह जाता है ,
या फिर अगली मुलाकात की ,
पृष्ठभूमि बन जाता है .....!!!!!!


पूनम जैन कासलीवाल

13 comments:

  1. भावों की गहराई में गोता!!

    शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर भावो का समावेश्।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही भावमय करते शब्‍दों का संगम ।

    ReplyDelete
  4. इज़हार आदत न होकर प्यार ही हो.......kya damdar soch hai,uspar ye khoobsurat kavita....kahoon to kya kahoon.....

    ReplyDelete
  5. man ke bhaavon ko badi khoobsurti ke saath bayan kiya hai.

    ReplyDelete
  6. भावमय करते शब्‍दों का सुन्दर संगम....

    ReplyDelete
  7. मेरी घरेलु भाषा भोजपुरी है.. इच्छा हुई की भोजपुरी में प्रतिक्रिया दूँ...

    बहुत बढ़िया लिखले बनी.. आभार.. राउर प्रतिक्रिया के हमरो बा इंतिजार.. एक बेर जरूर आइब.. राउर स्वागत बा...

    ReplyDelete
  8. मन कि भावनाओं से औतप्रोत सुंदर अभिवयक्ति ...

    ReplyDelete
  9. khoobsurat.. zazbaato se bheegi bheegi aur end.. toh gazab! :)

    ReplyDelete

 
Top