चाहत तो है
पर तुम्हारा साथ हो
यह सिर्फ मैं कैसे चाह लूँ ...




रश्मि प्रभा
==============================================================
एकाकीपन

वीरान पडी इन सडकों पर,
दो कदम तुम्हारा साथ मिले तो,
एकाकीपन मिट जायेगा.
भीड़ भरी इन सडकों पर,
खामोशी जो मिल जाये तो,
एकाकीपन मिट जायेगा.
कशमकश की इन राहों पर,
तन्हाई जो मिल जाए तो,
एकाकीपन मिट जायेगा.
आकुल व्यकुल इन राहों पर,
गुमनाम कोई जो मिल जाए तो,
एकाकीपन मिट जायेगा.
वीरानी इन सडकों पर,
दो कदम तुम्हारा साथ मिले तो,
एकाकीपन मिट जायेगा.
My Photo


रचना दीक्षित
रचना हूँ मैं रचनाकार हूँ मैं , सपना हूँ मैं या साकार हूँ मैं, रिश्तों में खो के रह गया संसार हूँ मैं, शून्य में लेता नव आकार हूँ मैं, अपने आप को ही खोजता इक विचार हूँ मैं, लेखनी में भाव का संचार हूँ मैं, स्वयं से ही पूंछती की कौन हूँ मैं, इसी से रहती अक्सर मौन हूँ मैं,

15 comments:

  1. वीरानी इन सडकों पर,
    दो कदम तुम्हारा साथ मिले तो,
    एकाकीपन मिट जायेगा.
    वाह ...बहुत खूब कहा है ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  2. अच्छी रचना है।
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. आकुल व्यकुल इन राहों पर,
    गुमनाम कोई जो मिल जाए तो,
    एकाकीपन मिट जायेगा..

    Bahut hi acchhi rachna.. Aabhar..

    ReplyDelete
  5. रचना जी की खूबसूरत प्रस्तुति .....

    मन के एकाकीपन कैसे मिटेगा ?....(अनु )

    ReplyDelete
  6. वीरानी इन सडकों पर,
    दो कदम तुम्हारा साथ मिले तो,
    एकाकीपन मिट जायेगा... रचना जी की खूबसूरत प्रस्तुति पढ़वाने के लिए धन्यवाद .....

    ReplyDelete
  7. kya baat...bahaut sunder rachna....virani ki in sadkon pr...gr jo tera saath mil jaye....to a mere humnashin......ye virana kahin kho jayega.....

    ReplyDelete
  8. भीड़ भरी इन सडकों पर,
    खामोशी जो मिल जाये तो,
    एकाकीपन मिट जायेगा.
    कशमकश की इन राहों पर,
    तन्हाई जो मिल जाए तो,
    एकाकीपन मिट जायेगा.

    waah ....shaandar kavita..gazab ki kalpna..:)
    dhannyawaad

    ReplyDelete
  9. ekakipan, tanhai, veerani, khamoshi.... shabdon ke khel se rachi basi ek sunder rachna ...

    ReplyDelete
  10. wah ji ekakipan mitane ke liye sunder saathi chune hain.

    sunder rachna.

    ReplyDelete
  11. अच्छी रचना है।
    शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  12. रश्मि प्रभा जी मेरी कविता को अपने ब्लॉग में प्रकाशित करने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  13. कशमकश की इन राहों पर,
    तन्हाई जो मिल जाए तो,
    एकाकीपन मिट जायेगा.

    तन्हाई से एकाकीपन मिटाने का ख्याल ...वाह

    इसी वक़्त व्यक्ति स्वयं अपने साथ होता है

    ReplyDelete
  14. अनजानी राहों में अकेले चलते तन्हाई मिट जाने की आस !
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति !

    ReplyDelete

 
Top