ज़िन्दगी अपनी शर्तों पर होती है
जो तुम सोचते हो
वह मैं भी मान लूँ - मुमकिन तो नहीं
... तुम भीड़ में सुकून पाते हो
मुझे अपने अकेलेपन से प्यार है
क्यूँ ? क्या ख्याल है ???
रश्मि प्रभा






=============================================================


साथ साथ मिलकर चलना ही जीवन को पाना है
ये बात सच है ...... पर सही हो
ये ज़रूरी तो नहीं

कई बार ज़िन्दगी अकेले गुज़ारने को भी कहते हैं
_______

खुद में .... खुद को जीने को भी कहते हैं
एक सांस ..... खुद के लिए लेने को भी कहते हैं
हाँ तुम्हारे साथ चलकर
मैंने इस दुनिया को पाया है
औ इससे जुडी हर ख़ुशी को भी

पर जीवन को पाया
खुद को .... खुद में जी कर
खुद के लिए .... एक नए सिरे से .... खुद को गुन कर
अपने लिए कुछ अनदेखे सपनों को .... बुन कर
अपनी ज़मीं अपना-आप खुद .... चुन कर

तो क्या ये जीवन को पाना नहीं ......?

My Photo


गुंजन अग्रवाल 
http://gunjangoyal5.blogspot.com/

अपने बारे में :
अपने-आप से बात करना बेहद पसंद है मुझे..... अपने-आप में जीना उससे भी ज्यादा। छोटी -छोटी ख्वाइशयें हैं मेरी...... उनको पूरा करना चाहती हूँ, ज़िन्दगी रहने तलक। अपने-आप को, ज़िन्दगी को, महसूस करना चाहती हूँ.... पूरी शिद्दत के साथ। एक साँस लेना चाहती हूँ..... जो सिर्फ मेरी हो.... मेरे खुद के लिए हो। इसलिए लिखती हूँ.... "मैं"

29 comments:

  1. बहुत सुन्दर भावमयी पंक्तियाँ.....

    ReplyDelete
  2. बहुत ही खुबसूरत पंक्तिया.....

    ReplyDelete
  3. अकेला जिया ...तो क्या जिया
    ख्यालों के काटों में ....
    मानों कोई ...सूरज मुखी का तड़पना

    ReplyDelete
  4. भीड़ में अकेले होने से अच्छा है यूँ ही अकेला हो जाना !
    सुन्दर पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावमयी पंक्तियाँ.....

    ReplyDelete
  6. kanto bhra hota hai ya lgta hoga n tb yh rasta! bojh bn gye rishton ko dhone se behtar hai akele jina.gunjan ki kvita hai??? aashchrya! jaise rashmiji bol rhi hai.

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर भावमयी पंक्तियाँ.....

    ReplyDelete
  8. pyari minni
    pyar
    mera mail ID kya blok hua.jaise sb kuchh thahr sa gya.wapas nya bnaya hai usi naam se pr.............ek shuruaat wapas...nye sire se.
    aapka mail id bhi nhi rha mere paas.isliye yahin likh rhi hun.sorry.
    mujhe tumhara sahara fir chahiye.....anguli thaam lo babu! yun bhi thk se gai hun.4 aug ko ek baar fir engeoplasty krwai hai.teen mhine me doobara.ha ha ha kya likhun?????
    samay mile to blog pr aana.follow krne jaisa lge to kr lena....wrna koi baat nhi.pyar

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ..आभार ।

    ReplyDelete
  10. अच्छा चिंतन...

    ReplyDelete
  11. ज़िन्दगी अपनी शर्तों पर होती है
    जो तुम सोचते हो
    वह मैं भी मान लूँ - मुमकिन तो नहीं
    ... तुम भीड़ में सुकून पाते हो
    मुझे अपने अकेलेपन से प्यार है
    क्यूँ ? क्या ख्याल है ???

    haan mumkin to nahi ..
    mujhe to bahut pyar hai akelepan se
    lekin log pagal samjhte hain kabhi kabhi...

    खुद में .... खुद को जीने को भी कहते हैं
    एक सांस ..... खुद के लिए लेने को भी कहते हैं

    kitna sukun mila in do pankhtyon ko padhkar bahut accha hai likha...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर प्रस्‍तुति ..आभार ।

    ReplyDelete
  15. अहम् ब्रम्हास्मी...जिसने खुद को जान लिया उसे सब मिल गया...

    ReplyDelete
  16. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  17. सुन्दर संवेदनशील अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  18. sach hai khud ko pana hi jeevan ko pana hai....

    ReplyDelete
  19. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  20. भावमयी रचना अच्छी लगी , बधाई

    ReplyDelete
  21. बहुत ही सुंदर ढंग से लिखी गई अपने अन्तेर्मन की स्थिति को सही ढंग से प्रस्तुत कराती हुई शानदार रचना ./बधाई आपको /




    please visitmy blog.thanks.

    ReplyDelete
  22. बिलकुल सही है.. कुछ समय खुद के लिए भी ज़रूरी है..

    ReplyDelete
  23. Hi I really liked your blog.

    I own a website. Which is a global platform for all the artists, whether they are poets, writers, or painters etc.
    We publish the best Content, under the writers name.
    I really liked the quality of your content. and we would love to publish your content as well. All of your content would be published under your name, so that you can get all the credit for the content. This is totally free of cost, and all the copy rights will remain with you. For better understanding,
    You can Check the Hindi Corner, literature and editorial section of our website and the content shared by different writers and poets. Kindly Reply if you are intersted in it.

    http://www.catchmypost.com

    and kindly reply on mypost@catchmypost.com

    ReplyDelete

 
Top