रिश्तों की उम्र बड़ी छोटी है
कोई एक पल के लिए
कोई दो पल के लिए
वक़्त खो जाये उससे पहले
आओ एक अपना घर बना लें हम भी !
.....

कितने सालों दिन महीनों से
हरी पगडंडियों के पाँव भी मचलते हैं
सितारे आसमां से लटके हैं
हवाएँ खिलखिलाके चलती हैं
जाने कब आखिरी मौसम आए
आओ एक अपना घर बना लें हम भी


 

रश्मि प्रभा

==================================================================
आओ
"चलो मिलके इन टुकड़ों में,
सांझी बुनियाद ढूंढे,
खुले आकाश के नीचे पुराने रिश्तों की
वो हर एक याद ढूंढे
गलतियां-कमीयां आम हो गयीं
आओ, कुछ ख़ास ढूंढे

सूखे पत्तों की तरह
क्यूँ बिखर जाएं?
शाख़ से तोड़ दें नाता
तो किधर जाएं?
जो टूटने लगी है
वो आस ढूंढे

एक-एक घर उठा के,
स्नेह की सिलाई पे,
बुन लेते हैं एक नया पहनावा
माफ़ी और भलाई से
नयी शुरुआत के लिये
एक नया लिबास ढूंढे

फर्क ही नहीं होता हममें गर
तो लज्ज़त कहाँ से आती?
सरगम कैसे सजती,
ये रंगत कहाँ से आती?
चलो, इन्ही फ़र्कों में कहीं,
एक से एहसास ढूंढे

एक दुसरे की ज़रूरतों को
समझने की ज़रुरत है
जो लाते है वापस, उन रास्तों पे
चलने की ज़रुरत है
आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
अपने आस-पास ढूंढे"
[anja.jpg]

अंजना  दयाल

28 comments:

  1. वंदना जी का सन्देश --

    आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. सार्थक प्रेरक संदेश्…

    चलो, इन्ही फ़र्कों में कहीं,
    एक से एहसास ढूंढे

    ReplyDelete
  3. आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे"

    वाह , बहुत सुन्दर भाव ..

    ReplyDelete
  4. फर्क ही नहीं होता हममें गर
    तो लज्ज़त कहाँ से आती?
    सरगम कैसे सजती,
    ये रंगत कहाँ से आती?
    चलो, इन्ही फ़र्कों में कहीं,
    एक से एहसास ढूंढे

    वाह क्या बात है ... बहुत ही सुन्दर और महत्वपूर्ण बात कही है अंजना जी ने ...

    ReplyDelete
  5. कितने सालों दिन महीनों से
    हरी पगडंडियों के पाँव भी मचलते हैं
    सितारे आसमां से लटके हैं
    हवाएँ खिलखिलाके चलती हैं
    जाने कब आखिरी मौसम आए
    आओ एक अपना घर बना लें हम भी
    bahut sunder bhav liye shaandaar rachanaa.badhaai sweekaren.

    ReplyDelete
  6. चलो, इन्ही फ़र्कों में कहीं,
    एक से एहसास ढूंढे
    bahut khoob..

    ReplyDelete
  7. सकारात्मक सोच को दर्शाती उम्दा रचना।

    आपकी रचना यहां भ्रमण पर है आप भी घूमते हुए आइये स्‍वागत है
    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  8. रिश्तों की उम्र बड़ी छोटी है
    कोई एक पल के लिए
    कोई दो पल के लिए
    .................

    सूखे पत्तों की तरह
    क्यूँ बिखर जाएं?
    शाख़ से तोड़ दें नाता
    तो किधर जाएं?

    वाह .. बहुत ही खूब कहा है ..बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  9. चलो, इन्ही फ़र्कों में कहीं,
    एक से एहसास ढूंढे

    सार्थक सोच लिये बहुत सुन्दर मर्मस्पर्शी रचना...

    दोनों ही प्रस्तुतियाँ बेहतरीन.

    ReplyDelete
  10. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (11.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर भाव लिये दोनों ही प्रस्तुतियाँ महत्वपूर्ण है आभार

    ReplyDelete
  12. जो लाते है वापस, उन रास्तों पे
    चलने की ज़रुरत है
    आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे"

    bahut khoob.....

    yahi jeene ki kalaa hai.....

    ReplyDelete
  13. जो लाते है वापस, उन रास्तों पे
    चलने की ज़रुरत है
    आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे"

    bahut khoob.....

    yahi jeene ki kalaa hai.....

    ReplyDelete
  14. जो लाते है वापस, उन रास्तों पे
    चलने की ज़रुरत है
    आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे"

    bahut khoob.....

    yahi jeene ki kalaa hai.....

    ReplyDelete
  15. सार्थक प्रेरक संदेश्| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  16. कितने सालों दिन महीनों से
    हरी पगडंडियों के पाँव भी मचलते हैं
    सितारे आसमां से लटके हैं
    हवाएँ खिलखिलाके चलती हैं
    जाने कब आखिरी मौसम आए
    आओ एक अपना घर बना लें हम भी

    Rashmi ji, bahut hi sunder!!!

    ReplyDelete
  17. waah! khubsurat ehsaas,aur khubsurat rachna....

    ReplyDelete
  18. आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे...बेहद सुन्दर बात...

    ReplyDelete
  19. आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे...
    बहुत ही बढ़िया रचना है,
    साभार- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  20. ''जाने कब आखिरी मौसम आए''


    ''सूखे पत्तों की तरह
    क्यूँ बिखर जाएं?
    शाख़ से तोड़ दें नाता
    तो किधर जाएं?
    जो टूटने लगी है
    वो आस ढूंढे''

    वाकई में क्या भरोसा जीवन का...

    रश्मि जी और अंजना जी अप दोनों की रचनायें सुंदर लगीं.

    ReplyDelete
  21. प्रेरक संदेश्|

    ReplyDelete
  22. एक दुसरे की ज़रूरतों को
    समझने की ज़रुरत है
    जो लाते है वापस, उन रास्तों पे
    चलने की ज़रुरत है
    आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे"

    क्या साधु भावना है....सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  23. bahut hi khubsurat lafjon me sazi ek khubsurat rachna :)

    ReplyDelete
  24. आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे" सकारात्मक सोच से ओत-प्रोत रचना हेतु साधुवाद

    ReplyDelete
  25. आओ हम हंसी-ख़ुशी की पोटलियाँ
    अपने आस-पास ढूंढे"

    बहुत सकारात्मक दृष्टिकोण
    अति सुन्दर

    ReplyDelete
  26. कल 10/08/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  27. एक-एक घर उठा के,
    स्नेह की सिलाई पे,
    बुन लेते हैं एक नया पहनावा
    माफ़ी और भलाई से
    नयी शुरुआत के लिये
    एक नया लिबास ढूंढे

    bahut sundar aahvaan !!!

    ReplyDelete

 
Top