नहीं जाती वो खुशबू कभी पास से
मचलते हैं सपने आज भी गीतों में ....



रश्मि प्रभा


 
==============================================================
सहारे- यादों के

वो मैं नहीं था
जिसने बर्फीली वादियों में
सुनहली किरणों से चमकती
ज़ुल्फों के साये में
गाया था वो गाना
पर जब भी कानों को
मिलती है उस गाने की आहट
तो पाता हूँ दिल की गहराइयों में ,
मैं गा रहा होता हूँ
कहीं दूर वादियों में,

वो भीनी सी खुशबू
अब भी है जेहन में
पर उस पल तो नहीं थी
तुम्हारे आस पास
जब तुम्हें देखा था जाते हुए
पता नहीं कब जुड़ गई
तुम्हारी यादों से
जब भी सैर करती
आती है वो खुशबू कहीं से
तुम्हें साथ लिए रहती है

एक आवाज़ जब भी आती है
अतीत में ले जाती है
कभी कोई लम्हा , कभी तो कोई दिन ही
कहीं पहले गुजारा हुआ लगता है
कभी बचपन की किसी तस्वीर
से बाहर आया हुआ ....

एक स्वाद,
कोई पुरानी कहानी
सुना जाता है
एक स्पर्श और एक पुराना ख़्वाब ...
कभी आईने में देखने पर
आ जाती है अपनी ही याद
खालीपन भी जोड़ लेता है कुछ यादों को
जब एक अहसास के लिए
जगह बनती है कभी दिल में
तो उससे जुड़ा
टुकड़ा , दिल का चैन
याद आ जाता है
लोगों की भारी भीड़ में भी ...

यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
उन्हें जरूरत होती है
एक सहारे या एक बैसाखी की ,
छोटी सी खाली जगह
जो मिल जाए तो फिर से
एक पुराना लम्हा
जी उठता है ...

अब मुझे याद रखना
शायद , तुम्हारे लिए
कुछ आसान हो जाए ...

रजनीश  तिवारी

19 comments:

  1. छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...


    बहुत खूबसूरती से लिखा है यादों को ..

    ReplyDelete
  2. यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
    उन्हें जरूरत होती है
    एक सहारे या एक बैसाखी की ,
    छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...

    यादें अपनी जगह बना ही लेती हैं ..

    ReplyDelete
  3. "एक आवाज़ जब भी आती है
    अतीत में ले जाती है
    कभी कोई लम्हा , कभी तो कोई दिन ही
    कहीं पहले गुजारा हुआ लगता है
    कभी बचपन की किसी तस्वीर
    से बाहर आया हुआ ...."
    यादों को देनी होती है जगह,देना होता है न्योता,यूँ ही नहीं आती यादें.रजनीश जी बहुत सुन्दर कहा है आपने ,यादों में खुशबू भी बाद में ही जुड़ती है .
    बहुत ही सुन्दर रचना.पढ़कर दिल को सुकून मिला.

    ReplyDelete
  4. यादें तो बिन बुलाई मेहमान है जब चाहे दस्तक दे देती हैं …………सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  5. यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
    उन्हें जरूरत होती है
    एक सहारे या एक बैसाखी की ,
    छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...

    बहुत खूबसूरत कविता है यादों के बारे में ...

    ReplyDelete
  6. अब मुझे याद रखना
    शायद , तुम्हारे लिए
    कुछ आसान हो जाए ...

    sunder ehsaas se bhari komal rachna

    ReplyDelete
  7. यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
    उन्हें जरूरत होती है
    एक सहारे या एक बैसाखी की ,
    छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...



    सही कहा यादों को बैसाखी की जरुरत होतीहै
    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  8. एक आवाज़ जब भी आती है
    अतीत में ले जाती है
    कभी कोई लम्हा , कभी तो कोई दिन ही
    कहीं पहले गुजारा हुआ लगता है
    कभी बचपन की किसी तस्वीर
    से बाहर आया हुआ ....

    बहुत ही शानदार प्रस्तुति… यादों में अट्खेलियां करते शब्द!!

    (रश्मि जी यह तस्वीर उठा लिए जा रहा हूँ, बहुत ही उपयोगी है।)

    ReplyDelete
  9. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (28.05.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

    ReplyDelete
  10. यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
    उन्हें जरूरत होती है
    एक सहारे या एक बैसाखी की ,
    छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...

    ....बिलकुल सच कहा है..यादें अपनी राहें स्वयं बना लेती हैं...बहुत सुन्दर भावमयी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  11. यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
    उन्हें जरूरत होती है
    एक सहारे या एक बैसाखी की ,
    छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...

    बहुत सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  12. याद ना जाए बीते दिनों की...
    जा कर ना आये जो दिन,
    उन्हें दिल क्यों बुलाये...

    ReplyDelete
  13. यादे हमारे अंदर छिपी होती हैं ,जब आवाज दो चली आती हैं …………..बहुत सुन्दर ठंग से यादों को याद किया है.. ….धन्यवाद

    ReplyDelete
  14. अब मुझे याद रखना
    शायद , तुम्हारे लिए
    कुछ आसान हो जाए ...

    बेहतरीन ।

    ReplyDelete
  15. वटवृक्ष में छांव में मेरी कविता , बहुत ही सुखद अनुभव है मेरे लिए ; साथ ही आप सब की प्रेरक टिप्पणियां , हृदय से आभारी हूँ ।

    ReplyDelete
  16. यादें सीधी नहीं जुड़ती हमसे
    उन्हें जरूरत होती है
    एक सहारे या एक बैसाखी की ,
    छोटी सी खाली जगह
    जो मिल जाए तो फिर से
    एक पुराना लम्हा
    जी उठता है ...
    yaade is jindagi ki..........bahut bahut khubsurat...

    ReplyDelete

 
Top