जब आस पास सबकुछ ख़त्म होने लगता है
तो बहुत कुछ कहना भी क्षणिक होता है 




रश्मि प्रभा





=====================================================

मुझमें प्रेम नहीं अब!


1.

हम सब
या फिर हम सब में से ज्यादातर
बड़े हुए
और फिर बूढ़े
और मर गए एक दिन
बेमतलब

और बुद्ध और कबीर के कहे पे
पानी फेर दिया

2.

प्रकृति ने भूलवश रच दी मृत्यु
और जन्म उस भूल के एवज में रचना पड़ा उसे

मृत्यु भी
झूठ लगती है अब

सभी हैं जीने को अभिशप्त !

3.

जब तक मैं शामिल नहीं हूँ
तब तक मुझे आस है
कि कुछ और लोग भी नहीं होंगे
उस बुरे कृत्य में शामिल

भले हीं दिखाई न पड़ें वे

4.

जितनी मोची पाता है
फटे जूते की मरम्मत कर के
या फिर कुम्हार घड़े बना के उठा लेता है सुख

उतना भी नहीं हासिल है मुझे
तुम्हें लिख के
कविता

मुझमें प्रेम नहीं अब!
[Image(150)Ba.jpg]

ओम आर्य

24 comments:

  1. सार्थक और भावप्रवण रचना।

    ReplyDelete
  2. सुंदर क्षणिकाएं

    ReplyDelete
  3. मृत्यु भी
    झूठ लगती है अब

    सभी हैं जीने को अभिशप्त !

    बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  4. सारी क्षणिकाएं गहन बात को कहती हुई ...

    ReplyDelete
  5. द्वितीय और चतुर्थ क्षणिका बहुत अच्छी लगी ... वैसे सारे ही अच्छे हैं ...

    ReplyDelete
  6. जितनी मोची पाता है
    फटे जूते की मरम्मत कर के
    या फिर कुम्हार घड़े बना के उठा लेता है सुख

    उतना भी नहीं हासिल है मुझे
    तुम्हें लिख के
    कविता

    मुझमें प्रेम नहीं अब!


    बहुत सुन्दर क्षणिकायें।

    ReplyDelete
  7. जीवन से प्रेम करने वालों के बीच जीने को अभिशप्त भी है कुछ लोग...
    ये त्रासदियाँ भी इसी जीवन का एक हिस्सा है ...
    सभी क्षणिकाएं बेहतरीन है ...

    ReplyDelete
  8. बहुत गहरा दर्द छिपा है इन क्षणिकाओं में, मार्मिक रचना !

    ReplyDelete
  9. sunder kshnikayen ...!!
    gahan matlab se bhari ...!!

    ReplyDelete
  10. sukh ki anubuti naye sandarbhon me achchhi lagi..

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर और मनभावन.सच को कहने का जज्बा सराहनीय है.

    ReplyDelete
  12. भावप्रधान क्षणिकाएं!!
    शानदार प्रस्तुति

    ReplyDelete
  13. मृत्यु भी
    झूठ लगती है अब


    क्षणिकाएं बेहतरीन है

    ReplyDelete
  14. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 24 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. कोमल एहसास को शब्द देने की कला कोई आपसे सीखे
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  17. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |
    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||
    --
    बुधवारीय चर्चा मंच

    ReplyDelete

 
Top