'प्यार'
सुनते ही पूरा शरीर
प्यार में तब्दील हो जाता है
जब तक कुछ समझो
सलीब पे होता है मन यह कहता हुआ
'प्रभु इन्हें माफ़ करना
ये नहीं जानते 'प्यार ' क्या है !'

रश्मि प्रभा





====================================================

प्यार और स्वास्थ्य

कहीं पढा था इक बार मैंने
कि प्‍यार वो फूल है
जो गुलाब से भी सुन्‍दर है
प्‍यार वो जज्‍बा है
जो खुदा से बढकर है
प्‍यार वो दुआ है
जो दवा से ज्‍यादा कारगर है
प्‍यार को लेकर इतनी नेमते पढी थी मैंने...
दिल व्‍याकुल था इस अहसास को पाने के लिए
सो जनाब, हम भी कर बैठे प्‍यार
दिल की घंटियां खूब बजी थी टनाटन
सतरंगी इंद्रधनुष हमने भी देखे सौ बार
हर तूफान से डूबने उतरने को थे तैयार
सो हो गया हमें भी प्‍यार
मगर सरकार,
जल्‍द ही उतरा यह खुमार,
जब घंटियां दिल से खिसककर
दिमाग में टनटनाने लगीं
गुलाब के फूलों की जगह अब
उसकी कांटेदार डालियां नजर आने लगीं
सतरंगी इंद्रधनुष भी ऐसा गायब
हर चीज श्‍वेत-श्‍याम नजर आने लगी
दुआओं की जगह दवाओं का लग गया अंबार
जिन आंखों से हुआ था इकरार
उन्‍हीं आंखों में था पानी से लबालब भरा तालाब
प्‍यार तो हम भी करते हैं अब भी
मगर इस वैधानिक चेतावनी के साथ
‘प्‍यार स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक है’
My Photo




प्रवीणा जोशी
http://kukoowords.blogspot.com/


12 comments:

  1. यथार्थ से भरे कटु एहसास .........
    ज़िन्दगी जो न दे वो कम है .....
    सुंदर रचना .

    ReplyDelete
  2. गंभीर रचना.. भाव भी है यथार्थ भी है..

    ReplyDelete
  3. ‘प्‍यार स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक है’

    सही कहा………………स्वास्थ्य के लिये तो हानिकारक है मगर आत्मा के लिये लाभदायक क्योंकि बिना प्यार के आत्मा की तृप्ति नही होती।

    ReplyDelete
  4. गंभीर रचना.
    रामनवमी पर्व की ढेरों बधाइयाँ एवं शुभ-कामनाएं

    ReplyDelete
  5. sunder rachna...
    pyar hota hi hai jeena sikhane ke liye..

    ReplyDelete
  6. 'प्यार'
    सुनते ही पूरा शरीर
    प्यार में तब्दील हो जाता है
    जब तक कुछ समझो
    सलीब पे होता है मन यह कहता हुआ
    'प्रभु इन्हें माफ़ करना
    ये नहीं जानते 'प्यार ' क्या है !'

    rashmi ji ,in chand shabdon men kya kuchh kah gaeen aap !
    bahut khoob !
    PYAR AUR SWASTHY sundar rachna PRAVEEN ji ko badhai

    ReplyDelete
  7. हकीकत से रूबरू होने की जद्दोजहद है यह रचना
    वैधानिक चेतावनी का विस्तार चाहता हूँ
    प्‍यार स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक है’
    पर प्यार के बिना स्वस्थ रहना असम्भव है'

    ReplyDelete
  8. saras grahy shilp sunder lga
    aabhar

    ReplyDelete
  9. यथार्थ से भरे कटु एहसास| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  10. प्यार एक बेहद खूबसूरत एहसास ..
    मगर आपकी कविता भी कुछ लोगों का सत्य हो सकती है !

    ReplyDelete
  11. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete

 
Top