अक्सर मरे हुओं को पाने के लिए
तुम खुदा को बुत बना देते हो
फिर उसके होने का प्रमाण मांगते हो
सोचो ....क्या तुम हो ?


रश्मि प्रभा



==============================================================




यकीनन .......



रिश्तों में जब स्वार्थ रुपी घुन लगता है ,
बना देता है जिन्दगी को एक नासूर ,
फिर वो सड़ने ,गलने लगते हैं !
ऐसे में सबसे बेहतर इलाज है कि ,
एक कैंसर के कीड़े की तरह ये रिश्ते
आपको पूरा का पूरा खा जाए
उस से पहले
उस रिश्ते रुपी अंग को
काट कर फ़ेंक दिया जाए ,
सड़ी हुई दुनिया के सड़े हुए लोगों ,
अभी भी वक़्त है उठ जाओ और
दो किसी जरूरत मंद को
थोड़ी सी हमदर्दी और थोडा सा प्यार
उन सबसे कहीं ज्यादा
सिर्फ और सिर्फ थोडा सा विश्वास
हम सबने सुना है
और माना भी है कि
प्यार और विश्वास तो दुनिया बदल सकता है ,
यकीनन
एक संगमरमर को ताजमहल में बदल सकता है

My Photoनीलम मिश्रा
परिचय सिर्फ इतना सा है कि ................जिन्दगी को समझने कि कोशिश में हूँ ,क्या पाया क्या खोया इस लेखे जोखे के बिना .

18 comments:

  1. प्यार और विश्वास तो दुनिया बदल सकता है ,
    यकीनन

    बेहतरीन शब्‍द रचना ।

    ReplyDelete
  2. प्यार और विश्वास तो दुनिया बदल सकता है ,
    यकीनन
    एक संगमरमर को ताजमहल में बदल सकता है
    atyant khoobsurat post......

    ReplyDelete
  3. यकीनन प्यार और विश्वास तो पत्थर मे भी प्राण फ़ूंक सकता है…………बेहद उम्दा रचना।
    रश्मि जी आपके ब्लोग की चर्चा हिन्दुस्तान मे पढी थी……………आपको हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  4. यकीनन ... प्यार और विश्वास तो दुनिया बदल सकता है ..! Bahut satik rachna...!

    ReplyDelete
  5. रिश्तों में जब स्वार्थ रुपी घुन लगता है ,
    बना देता है जिन्दगी को एक नासूर ,
    फिर वो सड़ने ,गलने लगते हैं

    प्यार और विश्वास ही इसकी दवा है ....अच्छी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. यक़ीनन, खूबसूरत है रचना!

    ReplyDelete
  7. हम सबने सुना है
    और माना भी है कि
    प्यार और विश्वास तो दुनिया बदल सकता है ,
    यकीनन
    एक संगमरमर को ताजमहल में बदल सकता है

    gahare dard ko darshaati -gahari abhivyakti ....

    ReplyDelete
  8. प्यार और विश्वास तो दुनिया बदल सकता है ,
    यकीनन
    एक संगमरमर को ताजमहल में बदल सकता है.. kuch panktiyo me apne bhut kuch kah diya... very nice...

    ReplyDelete
  9. एक संगमरमर को ताजमहल में बदल सकता है

    yun hi vishwas jeete,
    yun hi pyaar jeete,
    koi rishta naa sade,
    koi ang naa tootey.

    pyaar bhare dil se likhne wali ke dil ko anant pyaar miley. sundar abhivyakti neelam ji.
    shukriya rasjmi ji :)

    ReplyDelete
  10. प्यार और विश्वास में बड़ी ताकत होती है ...
    यक़ीनन ...
    सुन्दर कविता !

    ReplyDelete
  11. waah...
    anupam abhivyakti...sundar aur sarthak lekhan.. bahut khoob

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  13. आप सभी का आभार,रश्मि जी अब आपके लिए क्या कहे,आपका वटवृक्ष अपनी सघन छाँव में सभी को सुकून दे इसी कामना के साथ आपकी अपनी ............

    ReplyDelete
  14. आपके ब्लॉग पे आया, दिल को छु देनेवाली शब्दों का इस्तेमाल कियें हैं आप |
    बहुत ही बढ़िया पोस्ट है
    बहुत बहुत धन्यवाद|

    यहाँ भी आयें|
    यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने .साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ . हमारा पता है ... www.akashsingh307.blogspot.com

    ReplyDelete
  15. यकीनन
    एक संगमरमर को ताजमहल में बदल सकता है


    यकीनन !

    ReplyDelete
  16. सुन्दर कविता और सार्थक शिक्षा।

    ReplyDelete

 
Top