ज़रूरी !
...........
दो दिशाएँ -
एक ने कहा -
मैंने हमेशा तुम तक आना चाहा
पर लगा - ये मुमकिन नहीं
तो तुमको छूकर आती हवाओं में
मैं जीने लगी ...

दूसरी ने कहा -
बहुत हुआ ,
अब कुछ कदम तेरे होंगे
कुछ मेरे
आँधियों से घबराना नहीं
बहुत चले नियमों पर
अब पहले हम !

पहली ने कहा-
अब तो आदत सी हो गई है
और यह सुकून क्या कम है
कि आज हम बातें कर रहे हैं ...

बकवास है सुकून
दूसरी ने कहा ....
क्या हालत बना ली है तुमने
थामो मुझे
और भूल जाओ सबकुछ ...

अरे, अरे ... मुझे डर लगता है
(पहली ने कहा)
अब टूटने का हौसला भी नहीं
मुझे सुकून है
अब हम अलग अलग छोर पे नहीं
बस यूँ ही साथ चलते रहना ...

मुझे यूँ चलने की आदत नहीं
बहुत सोचा दूसरों को ....
(दूसरी ने कहा )

(पहली ने कहा)
मुझे मन के इस सुकून से गहरा लगाव है

(दूसरी ने कहा )
शरीर भी उतना ही महत्वपूर्ण है
इसको गौण मत करो ..........

और पहली दिशा
ईश्वर की हिदायतों के बाद
फिर तरंगित होने लगी
संदूक में रखे ख़्वाबों को
हकीकत का जामा पहनाने को उद्दत हुई...

घुमावदार रास्तों ने विरोध किया
पहली दिशा पर पत्थर फेंके
तीर सी चुभती बातें कहीं
रूह से जिस्म
और जिस्म से रूह के नशे में
दिशा ने संतुलन बनाये रखा
...........
छूकर आती हवाओं से परे
उसने दूसरी दिशा को पुकारा ...
ठिठकी , प्रश्न उभरे ...
दूसरी दिशा ने कहा -
.....
कदम सोच समझ के उठाने पड़ते हैं
संयम बहुत ज़रूरी है .....
......
संयम !
..........
.........
दूसरी दिशा फिर कभी नज़र नहीं आई !






           रश्मि प्रभा

14 comments:

  1. घुमावदार रास्तों ने विरोध किया
    पहली दिशा पर पत्थर फेंके
    तीर सी चुभती बातें कहीं
    रूह से जिस्म
    और जिस्म से रूह के नशे में
    दिशा ने संतुलन बनाये रखा
    ...........sundar panktiyan.achchhe bhaw. badhai , kabhi mere blog paraayen !

    ReplyDelete
  2. कदम सोच समझ के उठाने पड़ते हैं
    संयम बहुत ज़रूरी है ....

    गहन भावों का समावेश हर शब्‍द में ...बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  3. कदम सोच समझ के उठाने पड़ते हैं
    संयम बहुत ज़रूरी है .....
    ......
    संयम !
    ..........
    .........
    दूसरी दिशा फिर कभी नज़र नहीं आई !


    अभिव्यक्ति को सही दिशा अर्पण की आपने!!!!!

    ReplyDelete
  4. पहली और दूसरी दिशा के संवाद से गहन बात कह दी है ...अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  5. संवाद में दोनो का संतुलन और गरिमा बेजोड हैं ..

    ReplyDelete
  6. "शरीर भी उतना ही महत्वपूर्ण है
    इसको गौण मत करो ....."
    माध्यम तो सबको चाहिए,दिशा हो या जीवन.प्रकृति के बिम्बों को कितनी आसानी से अर्थ दे दिया आपने,दीदी.

    ReplyDelete
  7. Jeevan mein aise kai baar hota hai ki ham aise hi duvidha mein fanse hote hain ...
    bahut sundar tareeke se aapne is manodasha ko ubhara hai ...

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा..गहरी रचना.

    ReplyDelete
  9. संवाद में गहरी बात है.

    ReplyDelete
  10. विचारों के द्वंद्व में सदैव सकारात्मक विचार विजयी हुए हैं।

    तात्विक कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  11. कदम सोच समझ के उठाने पड़ते हैं
    संयम बहुत ज़रूरी है ..hamesha ki tarah ek shikh deti hui apki panktiya.. bhut hi khubsuarti se aap zindgi ki sachaai ko sabdo me kahti hai... madam kafi dino aap mere blog pe nhi aayi... meri kavitaayo ko apki sarahna ki jarurat rahti hai...

    ReplyDelete
  12. बहुत गहरी सोच|मन भावन रचना |
    आशा

    ReplyDelete
  13. वाह बहुत सुंदर जी

    ReplyDelete
  14. जहाँ संयम है , दूसरी दिशा को तो गायब होना ही था ...
    बहुत अच्छी लगी कविता !

    ReplyDelete

 
Top