मौन एक एहसास
मौन एक प्रखर भाषा
मौन एक चुनौती
मौन एक व्यथा
मौन एक गीत
मौन को मौन से सुनना
और कहना .... एक ईश्वरिये गुण है
जीवन का सार है !

रश्मि प्रभा





===================================================================

मौन



जब मौन मुखर होता है ,
शब्द चुक जाते है |
तब अहसासों की प्रतीती में ,
पुनः वाणी जन्म लेती है|
और शब्दों की संरचना कर
भावनाओ से परिपूर्ण हो
जीवन को जीवंत करती है |
एक पौधा रोपकर ,
खुशी का अहसास
देती है |
एक पक्षी को दाना चुगाकर ,
सन्तुष्टी का अहसास देती है |
एक दीपक जलाकर
मन के तंम को दूर करती है |
और इसी तरह दिन ,सप्ताह,
महीने और वर्षो की यह यात्रा
जीवन को सत्कर्मो का ,
संदेस दे देती है |
और फ़िर
मौन
शान्ति दे देता है |

शोभना चौरे
.

व्यवसाय -गृहिणी
शोभना चौरे का जन्म खंडवा (मध्य प्रदेश) में हुआ। हिन्दी साहित्य पढ़ने में रुचि रखती हैं तथा कविता, कहानी, लेख, व्यंग्य लिखने में रुचि रखती हैं। बी॰ए॰ तक पढ़ी-लिखीं शोभना गृहिणी हैं। पहले वामा,धर्मयुग में इनके लेख प्रकाशित हुए हैं। स्थानीय पत्र-पत्रिकाओं में समय-समय पर कविता और लेख प्रकाशित होते रहते हैं। वर्तमान में ये बंगलूरू में रहती हैं, जहाँ मजदूरों के बच्चों को पढ़ाकर उन्हें सरकारी पाठशालाओं में दाखिल करवाती हैं। अभी तक इनके यहाँ कुल 23 बच्चे पढ़ रहे है और इस साल कक्षा ५ में हैं।

26 comments:

  1. मौन तो ईश्वर का दिया हुआ अनमोल उपहार है।
    मौन की भाषा सबसे प्रखर होती है।
    दोनों ही रचनाएं अत्यंत प्रभावशाली हैं।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, शोभना जी का परिचय जानकार बेहद प्रसन्नता हुई, शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  3. मौन को मौन से सुनना
    और कहना .... एक ईश्वरिये गुण है
    जीवन का सार है !
    haan...ek bahut bara sach...utne hi khoobsurat andaz men....

    ReplyDelete
  4. जब मौन मुखर होता है ,
    शब्द चुक जाते है |
    ek aur sachchayee...dil ke kareeb....

    ReplyDelete
  5. और इसी तरह दिन ,सप्ताह,
    महीने और वर्षो की यह यात्रा
    जीवन को सत्कर्मो का ,
    संदेस दे देती है |
    और फ़िर
    मौन
    शान्ति दे देता है

    |बहुत ही गहन -
    सत्य के करीब लाती हुई रचना -
    मौन भव तार करा देता है .
    कोई शक नहीं .

    ReplyDelete
  6. मौन... वाकई कितना कुछ दे जाता है हमें...
    बहुत सटीक वर्णन...
    दोनों ही रचनाएँ बहुत सुन्दर हैं...

    ReplyDelete
  7. महीने और वर्षो की यह यात्रा
    जीवन को सत्कर्मो का ,
    संदेस दे देती है |
    और फ़िर
    मौन
    शान्ति दे देता है |

    दोनों ही रचनाएं अत्यंत प्रभावशाली हैं।

    ReplyDelete
  8. दोनों ही रचनाएँ बहुत सुन्दर हैं| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  9. maun ..ishvar ka diya aashirvad hai....jisne ise na samjha jeevan ko ek khalipan se bhar diya...

    ReplyDelete
  10. जीवन की छोटी छोटी बातों में खुशियाँ ढूंढनी चाहिए ... छोटी छोटी खुशियों से ही उत्तम साहित्य की रचना होती है ...

    ReplyDelete
  11. मौन अपनों का दुःख तो देता है मगर जब पढना आ जाता है तो असीम संतोष भी !

    ReplyDelete
  12. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (7-3-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. shanti shakti ka prateek hai....

    jai baba banaras.....

    ReplyDelete
  14. बहुत खूबसूरत पंक्तियों में सहेजा है मौन को

    ReplyDelete
  15. विचारों की गहन अभिव्यक्ति.....

    ReplyDelete
  16. गहन भावों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ...प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  17. दोनों ही रचनाओं में बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  18. मौन की भाषा भी कितनी सुन्दर होती है..बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  19. मौन की भाषा भी कितनी सुन्दर होती है..बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  20. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  21. मौन एक शक्ति है जिसने मौन को समझ लिया उसने जीवन को पा लिया.

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर रचना ... रश्मि जी .. सुन्दर चुनाव...

    ReplyDelete
  23. bahut sunder rachnayein hai

    ReplyDelete

 
Top