दो रोटी ... बड़ी महँगी होती है
कीमत चुकाते चुकाते उम्र बीत जाती है
सपने तार तार हो जाते हैं
कहाँ लौटता है बीता पल ...



रश्मि प्रभा



===========================================================
उतरते पानी के साथ


बूढ़ी नीम की फुनगियाँ
पाठशाले की छत
उनचका टीला
सब
धीरे-धीरे लौट रहे हैं,

उतरते पानी के साथ...

रमिया परेशान हाल
सुबकती है
बंधे पर,

क्या लौट पायेगा
वो कमजोर क्षण
वो
नियति चक्र
जब
इसी बंधे पर
छोटे भाई के लिए
दो रोटियों की तलाश मे
वो गवां आई थी
"सब कुछ"

क्या वो भी लौटेगा
उतरते पानी के साथ??

My Photo*अमित आनंद

15 comments:

  1. दो रोटी ... बड़ी महँगी होती है
    कीमत चुकाते चुकाते उम्र बीत जाती है
    सपने तार तार हो जाते हैं
    कहाँ लौटता है बीता पल ...

    ........mai bhi kai baar sochta hoon ..past to kabhi aata hi nahi chaahe aap duniya ki saari dhan doulat jhonk do.......

    ReplyDelete
  2. हर किसी को किसी न किसी पल के लौटने का इंतजार होता ही है. बेहद मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. कविता में व्यक्त पीड़ा मन को नम कर गई।

    ReplyDelete
  4. जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई हो

    ReplyDelete
  5. कुछ चीजें लौट नहीं सकतीं

    ReplyDelete
  6. दो रोटी ... बड़ी महँगी होती है
    कीमत चुकाते चुकाते उम्र बीत जाती है
    wah.ekdam sajeev chitr khinch dee hai.sath hi 'happy birthday'.doosri kavita bhi bahut achchi lagi.

    ReplyDelete
  7. क्या वो भी लौटेगा उतारते पानी के साथ ...
    शब्दों का दर्द भेद गया कलेजे को ..!

    ReplyDelete
  8. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
    कल (14-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
    देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
    अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।
    http://charchamanch.uchcharan.com

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  10. नियति चक्र
    जब
    इसी बंधे पर
    छोटे भाई के लिए
    दो रोटियों की तलाश मे
    वो गवां आई थी
    "सब कुछ"
    ..behad marmsparshi rachna..

    ReplyDelete
  11. उफ़ और आह या काश के सिवा कुछ भी कहा नहीं जा सकता ।
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  12. सुन्दर रचना!
    जन्म दिवस की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  13. बेचारी मछुआरन!

    ReplyDelete
  14. दो रोटी ... बड़ी महँगी होती है
    कीमत चुकाते चुकाते उम्र बीत जाती है
    सपने तार तार हो जाते हैं
    कहाँ लौटता है बीता पल ...

    कटु लेकिन सत्य..मर्मस्पर्शी


    क्या लौट पायेगा
    वो कमजोर क्षण
    वो
    नियति चक्र
    जब
    इसी बंधे पर
    छोटे भाई के लिए
    दो रोटियों की तलाश मे
    वो गवां आई थी
    "सब कुछ"

    बहुत मार्मिक प्रस्तुति..काश जीवन में दो रोटियों की ज़रूरत न होती ..

    ReplyDelete
  15. जीवन का एक कड़वा सच ...इस अभिव्‍यक्ति में ।

    ReplyDelete

 
Top