मेरे घरौंदे से तेरे नाम की खुशबू आती है
बंद कमरों से तेरे नाम की सदा आती है
मैं लाख अनसुना करूँ
-इमरोज़- तेरा नाम मेरे लबों पर आ जाता है
मैं गाती भी नहीं
पर सुर मेरे अन्दर पिघलता है
एक इमरोज़ खुदा मेरे नाम कर जाये
ये ख्याल मेरे दिल में भी उतरता है.........


रश्मि प्रभा  






====================================================

किताबे-इश्क़ की पाक आयतें...

मेरे महबूब
मुझे आज भी याद हैं
वो लम्हे
जब तुमने कहा था-
तुम्हारी नज़्में
महज़ नज़्में नहीं हैं
ये तो किताबे-इश्क़ की
पाक आयतें हैं...
जिन्हें मैंने हिफ्ज़ कर लिया है...
और
मैं सोचने लगी-
मेरे लिए तो
तुम्हारा हर लफ़्ज़ ही
कलामे-इलाही की मानिंद है
जिसे मैं कलमे की तरह
हमेशा पढ़ते रहना चाहती हूं...

पत्रकार, शायरा और कहानीकार... उर्दू, हिन्दी और पंजाबी में लेखन...दूरदर्शन केन्द्र और देश के प्रतिष्ठित समाचार-पत्रों दैनिक भास्कर, अमर उजाला और हरिभूमि में कई वर्षों तक सेवाएं दीं...ऑल इंडिया रेडियो, दूरदर्शन केन्द्र से समय-समय पर कार्यक्रमों का प्रसारण... ऑल इंडिया रेडियो और न्यूज़ चैनल के लिए एंकरिंग भी की है...देश-विदेश के प्रतिष्ठित समाचार-पत्रों व पत्रिकाओं के लिए लेखन जारी...मेरी ' गंगा-जमुनी संस्कृति के अग्रदूत' नामक एक किताब प्रकाशित... फ़िलहाल 'स्टार न्यूज़ एजेंसी' और 'स्टार वेब मीडिया' में समूह संपादक का दायित्व संभाल रही हैं...
Firdaus-Khan-2.jpg

20 comments:

  1. मेरे लिए तो
    तुम्हारा हर लफ़्ज़ ही
    कलामे-इलाही की मानिंद है

    बहुत ही सुन्‍दर भावमय करते शब्‍द ...इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये बधाई ।

    ReplyDelete
  2. सिर्फ एक आह निकली... "वाह"...

    ReplyDelete
  3. सचमुच प्यार इसे ही तो कहते है। शानदार रचना। आभार।

    ReplyDelete
  4. क्या बात है
    प्यार इसे ही तो कहते है। शानदार रचना। ..बहुत सुंदर .

    ReplyDelete
  5. रश्मि जी
    बहुत ही सुन्दर रचना है...

    मेरे घरौंदे से तेरे नाम की खुशबू आती है
    बंद कमरों से तेरे नाम की सदा आती है

    ReplyDelete
  6. दोनों रचनाएँ उम्दा हैं ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  7. हमेशा की तरह बेहतरीन रचना!

    ReplyDelete
  8. जब तुमने कहा था-
    तुम्हारी नज़्में
    महज़ नज़्में नहीं हैं
    ये तो किताबे-इश्क़ की
    पाक आयतें हैं...
    ise kahte hai sonch vah kya bat hai

    ReplyDelete
  9. तुम्हारा हर लफ़्ज़ ही
    कलामे-इलाही की मानिंद है
    जिसे मैं कलमे की तरह
    हमेशा पढ़ते रहना चाहती हूं
    .
    अस्ताख्फिरुल्लाह

    ReplyDelete
  10. रश्मि जी चित्र तो खतरनाक डाला है पर नज्म़ बहुत प्यारी है

    ReplyDelete
  11. फिरदौस बहन, आप उन चन्द लोगो मे से हैं जिनकी सीधी पहुँच मेरे दिल तक है, और आपकी यह रचना भी मेरे दिल मे बस गई।



    मासूम जी "अस्ताख्फिरुल्लाह" का अर्थ स्पष्ट करें तो हम सब के लिए लाभप्रद होगा। आपने फिरदौस बहन के ब्लोग पर बहुत सुन्दर टिप्पणी की है पर मेरी सीमित जानकारी मे इस शब्द का अर्थ आपकी उस टिप्पणी से मेल नही खाती, संभव है मैं गलत होऊं, कृपया स्पष्ट करें

    ReplyDelete
  12. अपने महबूब का हर लफ़्ज ....याद आता है ...
    हिफ़्ज कर लिया है --हर पल,हर लम्हा...
    क्योंकि वो पाक है उतना ही---जितनी कि कुरान की आयत...
    या कहूँ पवित्र भी उतना ही---जितनी कि गीता की इबादत....

    भावों की बेहतरीन अभिव्यक्ति के लिए आभार.....
    फ़िरदौस...अपने आप मे एक परिचय...
    शुक्रिया रश्मि जी...

    ReplyDelete
  13. और हाँ मासूम जी के लिखे इस शब्द "अस्ताख्फिरुल्लाह" का अर्थ मैं भी जानना चाहती हूँ... पहली बार पढ़ा है...

    ReplyDelete
  14. Astaghfirullah
    Meaning:An Arabic phrase meaning "I ask Allah forgiveness."

    ReplyDelete
  15. Masoom ji, I don't see any reason why one should seek forgiveness for this poem. Any how, it's your view i can't impose my view on you.

    ReplyDelete
  16. बहुत ही सुंदर रचना.....बधाई...

    ReplyDelete
  17. मेरे घरौंदे से तेरे नाम की खुशबू आती है ...

    मेरे लिए तो
    तुम्हारा हर लफ़्ज़ ही
    कलामे-इलाही की मानिंद है...

    प्यार- इश्क -इबादत इन रचनाओं से निकलकर फिजाओं में जा ठहरा है!

    ReplyDelete

 
Top