कुछ रिश्ते खून के नहीं होते, कुछ रिश्ते रेत पर पड़े वे निशान होते हैं जो लहरों के साथ गुम दिखते तो हैं, पर गुम होते नहीं -कभी सपनों में कभी जगे जगे से ख्यालों में आते हैं और चिर परिचित एहसास दे जाते हैं !



रश्मि प्रभा



=============================================================
दरारें

पहले रिश्तों में कुछ दरारें रहती थीं
अब दरारों में रिश्ते रहते हैं
पहले दरारों को हम सीते थे
आज उन्हीं दरारों में हम जीते हैं
कभी ये रिश्ते धरोहर की तरह संजोये जाते थे
आज सिर्फ दिखाने को ढोए जाते हैं
कभी ये रिश्ते चाशनी से मीठे
आज के रिश्ते ख़मीर से खट्टे
देखने में उपर से मजबूत
नीचे बेज़ार, बेदम,खोखले
आज रिश्तों का दम घुटने लगा है
इन दरारों में पनपने की जगह ही कहाँ है
ऐ इंसान जागो
इन रिश्तों को आज़ाद करो
इन्हें खुली हवा चाहिए
इन्हें संभलने को कुछ वक़्त चाहिए
रिश्तों में चाशनी नहीं
चाशनी को बहने को
दिल में कुछ जगह चाहिए.



रचना दीक्षित
http://rachanaravindra.blogspot.com/
"अपने बारे में क्या कहूँ,
अपनी तलाश, अभी बाकी है.
जब भी झाँका है अन्दर, अपने
एक एतबार अभी बाकी है."
बन जाएगी, पहचान अपनी भी एक दिन
उम्र तमाम अभी बाकी है.

24 comments:

  1. इन्हें संभलने को कुछ वक़्त चाहिए
    रिश्तों में चाशनी नहीं
    चाशनी को बहने को
    दिल में कुछ जगह चाहिए.
    sahi lekhan hai aur bilkul satya hai-----

    ReplyDelete
  2. चाशनी को बहने को
    दिल में कुछ जगह चाहिए.

    बहुत सही एवं सच्‍ची बात ...इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये आभार ।

    ReplyDelete
  3. रिश्तों का दर्द और महत्त्व बहुत खूबसूरती से उकेरा है।

    ReplyDelete
  4. कभी ये रिश्ते धरोहर की तरह संजोये जाते थे
    आज सिर्फ दिखाने को ढोए जाते हैं

    बहुत बढ़िया रचना जी ,आज के रिश्तों की विवेचना जिन शब्दों में की गई, उस ने कविता को सार्थक बना दिया है
    रश्मि जी ,आप की २ पंक्तियां बहुत ख़ूबसूरत हैं
    बधाई हो आप बहुत बढ़िया रचनाएं पढ़वाने का पुण्य कमा रही हैं

    ReplyDelete
  5. Rachna jee bahut sundar kavita ekar aayi hai ...
    jaise jaise ham duniyadaari mein fanste jaate hai ... rishton kee ahmiyat bhool jaate hain ... hamein phir se samajhna hoga ki dhan daulat, naam yash se kahin badhkar hain rishte ...

    ReplyDelete
  6. रिश्तों को खुली हवा चाहिए ...तंग सिकुड़ते कमरे से आज़ादी ...
    सुन्दर अभिव्यक्ति !

    ReplyDelete
  7. Waaah...
    Rishte sacche mann se ho, na ki dikhawe ke... bahut hi behtarin shabd..!

    ReplyDelete
  8. पहले रिश्तों में कुछ दरारें रहती थीं
    अब दरारों में रिश्ते रहते हैं
    पहले दरारों को हम सीते थे
    आज उन्हीं दरारों में हम जीते हैं

    रचना जी इन खूब सूरत पंक्तिओं के साथ आप को नमस्कार !
    काव्य अभिव्यक्ति बेहद सुंदर है , साधुवाद .
    अच्छी रचना के लिए आप को बधाई .
    सादर !

    ReplyDelete
  9. पहले रिश्तों में कुछ दरारें रहती थीं
    अब दरारों में रिश्ते रहते हैं
    पहले दरारों को हम सीते थे
    आज उन्हीं दरारों में हम जीते हैं
    रचना जी ने आज बदले हुये समय का सच बहुत सुन्दर शब्दों मे कहा है। शानदार रचना।रचना दीक्षित जी को पढना हमेशा ही अच्छा लगता है\बधाई रचना जी।

    ReplyDelete
  10. रिश्तों में चाशनी नहीं
    चाशनी को बहने को
    दिल में कुछ जगह चाहिए.

    bahut sach!

    jab se single family system aaya hai sach me ek family me bhi duriyan ban gayee hai:(

    ReplyDelete
  11. rishton men chashni ka nahi use bahane ke liye jagah chaahiye ..bahut sundar prastuti

    ReplyDelete
  12. परिचयात्मक पंक्तियाँ और रचना दोंनो ही ह्रदय स्पर्शी भावों से भरी हुईं हैं,वाह!
    नववर्ष की मंगल कामनयें!

    ReplyDelete
  13. सच कहा है .किसी भी चीज़ को पनपने के लिए खुली हवा चाहिए .रिश्तों को भी.
    बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  14. "पहले रिश्तों में कुछ दरारें रहती थीं
    अब दरारों में रिश्ते रहते हैं
    कभी ये रिश्ते धरोहर की तरह संजोये जाते थे
    आज सिर्फ दिखाने को ढोए जाते हैं"
    रचना जी, मैंने आपकी रचनाएँ पढ़ता रहता हूँ .यह रचना भी मानवीय मूल्यों में गिरावट की गाथा का विस्तार है.गहरी संवेदना से उपजी ये रचना स्वयं में एक दीप्त धरोहर जैसी है जो उन मूल्यों की खोज में लगे लोगों का मार्गदर्शन करेगी ऐसा मेरा विश्वास है.अत्यंत प्रेरणादायी.

    ReplyDelete
  15. रचना जी को पढना हमेशा ही अच्छा लगता है....रचना जी ने आज बदले हुये समय का सच बहुत सुन्दर शब्दों मे कहा है।

    ReplyDelete
  16. रचना जी को पढना हमेशा ही अच्छा लगता है....रचना जी ने आज बदले हुये समय का सच बहुत सुन्दर शब्दों मे कहा है।

    ReplyDelete
  17. बहुत बढ़िया... दोनों के दोनों...
    मैं भी हमेशा चाशनी का डब्बा लेकर घूमती रहती हूँ और कोशिश करती हूँ, बहाने खोजती हूँ दिलों में जगह पाने की...

    ReplyDelete
  18. रश्मि जी मेरी कविता को अपने ब्लॉग पर स्थान व सम्मान देने के लिए बहुत बहुत आभार. सभी पाठकों का मेरी कविता पढ़ने और विवेचना करने के लिए हृदय से धन्यवाद.
    रचना दीक्षित

    ReplyDelete
  19. दरारों में रिश्ते ...
    रिश्तों पर आज की सच्चाई को बहुत अच्छे से उकेरा है ..एक सुंदर रचना

    ReplyDelete
  20. isi chaahiye par to sab kuchh ruk jata...sundar abhivyakti, shubhkaamnaayen.

    ReplyDelete
  21. "पहले रिश्तों में कुछ दरारें रहती थीं
    अब दरारों में रिश्ते रहते हैं
    कभी ये रिश्ते धरोहर की तरह संजोये जाते थे
    आज सिर्फ दिखाने को ढोए जाते हैं"waah

    ReplyDelete

 
Top