लो यह साल भी गया ...
अब फिर है एक नया साल
नए संकल्प
नई संभावनाएं
नए मौके !


यह साल गया
इसे जाना ही था
पर जब तक यह रहा
तुम्हें तुम्हारे संकल्पों की
याद दिलाता रहा
पर मस्ती की धू धू जलती अग्नि में
तुमने उन संकल्पों को घी बना दिया ...
तुम्हें तो यह भी होश नहीं रहा
कि तुम्हारे हाथ जल गए
मरहम बने माँ बाप ने
जलन होने ही नहीं दिया !


पर आज मैं तुम्हें आगाह कर दूँ
....
कल से जो वर्ष साथ चलनेवाला है
वह रहस्यों का साल है !
अगर तुमने कोई चाल चली तो.....
सुलझाते-सुलझाते चेतनाशून्य हो जाओगे !
..... अब मैं चला
कल के संकल्प पर गौर करना
जो भी कदम उठाना
सोच समझकर उठाना



सुमन सिन्हा
http://zindagikhwaabhai.blogspot.com/

19 comments:

  1. अब मैं चला
    कल के संकल्प पर गौर करना ...

    बिल्‍कुल सही कहा है ....बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति ....नववर्ष की शुभकामनाओं के साथ आभार इस बेहतरीन प्रस्‍तुति के लिये ...।

    ReplyDelete
  2. आने वाले वक्त के संकल्पों पर गौर करवाती अच्छी रचना ..

    नव वर्ष की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  3. गज़ब की बेहद गहन प्रस्तुति।
    नव वर्ष की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  4. ..... अब मैं चला
    कल के संकल्प पर गौर करना
    जो भी कदम उठाना
    सोच समझकर उठाना.....

    अच्छी प्रस्तुति।नव वर्ष की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति . . नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  6. रहस्यों का साल ...
    मुझे तो ये साल भी ऐसा ही लगा रहस्यमय ...

    नव वर्ष की ढेरों शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  7. hame bhi sankalp yaad rakhna hi hoga...:)

    nav varsh ki shubkamna suman jee........aur rashmi di......

    ReplyDelete
  8. अब मैं चला
    कल के संकल्प पर गौर करना
    जो भी कदम उठाना
    सोच समझकर उठाना

    बहुत प्रभावपूर्ण प्रस्तुति..नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  9. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.

    अनगिन आशीषों के आलोकवृ्त में
    तय हो सफ़र इस नए बरस का
    प्रभु के अनुग्रह के परिमल से
    सुवासित हो हर पल जीवन का
    मंगलमय कल्याणकारी नव वर्ष
    करे आशीष वृ्ष्टि सुख समृद्धि
    शांति उल्लास की
    आप पर और आपके प्रियजनो पर.

    आप को भी सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति
    आप को भी सपरिवार नव वर्ष २०११ की ढेरों शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  11. अब मैं चला
    कल के संकल्प पर गौर करना
    जो भी कदम उठाना
    सोच समझकर उठाना...

    **बहुत ही खूबसूरत भाव!
    प्रभावी कविता.
    नववर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  12. bahut sundar rachana,

    नव वर्ष 2011
    आपके एवं आपके परिवार के लिए
    सुखकर, समृद्धिशाली एवं
    मंगलकारी हो...
    ।।शुभकामनाएं।।

    ReplyDelete
  13. धन्यवाद..सुंदर रचना...नये सालकी शुभकामना...

    नीलम दोशी

    http://paramujas.wordpress.com

    i am gujarati writer..saw this blog first time..and like it very much..
    beautiful..congrats..

    ReplyDelete
  14. वाह! गज़ब की बात!

    ReplyDelete
  15. विचारों से ओत-प्रोत सुन्दर रचना!
    नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  16. धन्यवाद! इतने मूल्यवान विचारों का
    साझीदार मुझे बनाया।
    नववर्ष की हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए!
    सद्भावी--डॉ० डंडा लखनवी,

    ReplyDelete
  17. सुन्दर लिखा है बधाई |नव वर्ष शुभ और मंगलमय हो |
    आशा

    ReplyDelete
  18. नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  19. बहुत ही शानदार रचना ! दिग्भ्रमित युवाओं को चेताती और सन्मार्ग पर चलने की प्रेरणा देती एक बहुत ही सशक्त प्रस्तुति ! नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें एवं अभिनन्दन !

    ReplyDelete

 
Top