एक लम्बी यात्रा करनी है....
हमारे वक्त में जो मासूमियत हुआ करती थी
उसके बीज ढूंढने हैं...
रात को जब सब नींद के आगोश में होंगे
तब हर आँगन में एक बीज लगाउंगी
ख्वाहिश है ,
...ओस की नमी से पनपी,
भोर की पहली किरण से निखरी मासूमियत
हर आँगन में खिलखिलाए
और लम्हों में एक सुकून भर जाए...


रश्मि प्रभा







==========================================

दायरे
==========================================


बचपन में कभी कभी
टूटे पंख घर ले आती थी
अब्बू को दिखाती थी..
अब्बू यूँ ही कह देते-......

"इसे तकिये के नीचे रख दो
और सो जाओ
सुबह तक भूल जाओ
वो दस रुपये में बदल जाएगा
बाज़ार जाना
जो चाहे खरीद लाना..."

मैं ऐसा ही करती ...
रात में अब्बू चुपके से
पंख हटा कर दस रुपये रख देते..
सुबह उठते ही बेसब्री से
दुकाने खुलने का इंतज़ार करती
कोई एक मासूम सा सपना
खरीद लाती ...
.......वो सोच कर आज मैं
एक उदास हंसी हंस देती हूँ....
अब चाहे कितने ही टूटे हुए पंख
कितने ही रुपयों में क्यूँ न बदल जाएं
वो मुस्कराहट
वो ख़ुशी
नहीं खरीद सकते.....
हमारी बेहद ख्वाहिशें
ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
इनके दायरे में नहीं समाते ...
.....या फिर यूँ कहें
किसी दायरे में नहीं समाते....
()क्षितिजा

शिक्षा : MPhil (Clinical Psychology),
शौक :संगीत का शौक है ...
कत्थक सीखा है ...
शास्त्रीय संगीत (गायन) भी सीखा है ...
पेंटिंग्स भी बनती हूँ ...
पढने का भी शौक है ...
और थोडा बहुत लिख भी लेती हूँ ...
email id : xitija.singh@gmail.com

24 comments:

  1. हमारी बेहद ख्वाहिशें
    ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
    इनके दायरे में नहीं समाते ...
    .....या फिर यूँ कहें
    किसी दायरे में नहीं समाते....

    वाह!अच्छी अभिव्यक्ति!सच भी है,क्योंकि:

    "ख्याब शीशे के हैं,किर्चों के सिवा क्या देंगें,
    टूट जायेंगे तो ज़ख्मों के सिवा क्या देंगें।"

    _Ktheleo
    www.sachmein.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. बहुत खूबसूरत ...बचपन कितना भोला होता है ....

    ReplyDelete
  3. क्षितिजा जी को यहाँ पढना अच्छा लगा...

    ReplyDelete
  4. एक लम्बी यात्रा करनी है....
    हमारे वक्त में जो मासूमियत हुआ करती थी
    उसके बीज ढूंढने हैं...
    रात को जब सब नींद के आगोश में होंगे
    तब हर आँगन में एक बीज लगाउंगी
    ख्वाहिश है ,
    ...ओस की नमी से पनपी,
    भोर की पहली किरण से निखरी मासूमियत
    हर आँगन में खिलखिलाए
    और लम्हों में एक सुकून भर जाए...

    रश्मि जी ,
    जब फसल उग जाए तो कुछ बीज मुझे भी भेज दीजियेगा ....आज मासूमियत नहीं मिलती ....

    ReplyDelete
  5. हमारी बेहद ख्वाहिशें
    ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
    इनके दायरे में नहीं समाते ...
    .....या फिर यूँ कहें
    किसी दायरे में नहीं समाते..

    reallly tooooooooo good .simple and honest poetry is this .............

    ReplyDelete
  6. संगीता जी आपसे असहमत हू,मासूमियत तो हमारे आप के बीच मे ही जिंदा है बस...............महसूस करने की जरूरत है

    हमारे वक्त में जो मासूमियत हुआ करती थी
    उसके बीज ढूंढने हैं...
    रात को जब सब नींद के आगोश में होंगे
    तब हर आँगन में एक बीज लगाउंगी
    ख्वाहिश है ,
    ...ओस की नमी से पनपी,
    भोर की पहली किरण से निखरी मासूमियत
    हर आँगन में खिलखिलाए
    और लम्हों में एक सुकून भर जाए...



    दिल को छू गयी है ये पंक्तियां

    ReplyDelete
  7. "अब चाहे कितने ही टूटे हुए पंख
    कितने ही रुपयों में क्यूँ न बदल जाएं
    वो मुस्कराहट
    वो ख़ुशी
    नहीं खरीद सकते....."

    वाकई मासूमियत एक अंदाज़ है , जिसे हम आज भी महसूस कर सकते है . बचपन में ये अंदाज़ महसूस करने की ज़रूरत नही होती थी क्योंकि और कोई अंदाज़ भी तो नही था जीने का हमारे पास .
    शायद इसलिए बचपन भोला था .

    ReplyDelete
  8. बिल्कुल सही कह रही हैं वो मासूमियत लौट्कर नही आती।

    ReplyDelete
  9. हमारे समय जैसी मासूमियत हममे तो है , मगर हमारे समय के और लोगों में ना हो तो क्या किया जाए ...
    मगर कोई बात नहीं ...हम मिलकर बीज लगायेंगे ...पक्का ...

    बचपन की छोटी -छोटी ख्वाहिशें और उनका पूरा होना कितनी ख़ुशी भर देता है ...होते है लोंग जो राजमहल में रहकर भी खुश नहीं रह पाते ... रोज खिलने वाले फूल , उनपर पड़ी ओस की बूँद , उगते सूरज की लालिमा , ढलती शाम को जी भर निहारना ...हमें दे देता है खुशिया अपार !

    ReplyDelete
  10. सच पूछा जाये तो ओस से भरी हथेली मुझे अमीर बनाती है ... पैसे से भरी मुट्ठी ! भरनेवाले का व्यवहार हतप्रभ कर जाता है ...रोटी, कपडा और छत ज़रूरत हैं, पर खुशियाँ छीन लेते हैं

    ReplyDelete
  11. ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
    इनके दायरे में नहीं समाते ...
    .....या फिर यूँ कहें
    किसी दायरे में नहीं समाते....

    हाँ ऐसा तो होता है ... जैसे जैसे मासूमियत खो जाती है, सपने इतने बड़े हो जाते हैं कि छोटी छोटी खुशियों को हम भूल जाते हैं, महसूस नहीं कर पाते हैं ..

    ReplyDelete
  12. rashmijee aur chitijajee ne milkar jase sone men suhaga dal diya hai.

    ReplyDelete
  13. बहुत ख़ूबसूरत और लाजवाब रचना !

    ReplyDelete
  14. ख्वाहिश है ,
    ...ओस की नमी से पनपी,
    भोर की पहली किरण से निखरी मासूमियत
    हर आँगन में खिलखिलाए
    और लम्हों में एक सुकून भर जाए...
    पहले तो इन पँक्तिओं के लिये बधाई स्वीकारें।
    हमारी बेहद ख्वाहिशें
    ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
    इनके दायरे में नहीं समाते ...
    .....या फिर यूँ कहें
    किसी दायरे में नहीं समाते...
    दिल को छू गयी ये पँक्तियाँ दायरे बहुत छोटे होते हैं लेकिन ख्वाहिशों के पँख तो आसमा से भी बडे।ाउर बचपन के मासूम सपने खवाहिशें तो यथार्थ की जमीं तक आते आते ही दम तोड देते हैं। बहुत अच्छी रचना। क्षितिका जी को बधाई।

    ReplyDelete
  15. मासूमियत से भरी बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  16. हमारी बेहद ख्वाहिशें
    ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
    इनके दायरे में नहीं समाते ...
    .....या फिर यूँ कहें
    किसी दायरे में नहीं समाते..

    बहुत ही भावमय करते शब्‍द ...बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  17. बेहतरीन रचना!

    ReplyDelete
  18. हमारी बेहद ख्वाहिशें
    ज़रुरत से ज़्यादा बड़े सपने
    इनके दायरे में नहीं समाते ...
    .....या फिर यूँ कहें
    किसी दायरे में नहीं समाते....

    बचपन कितना मासूम होता है. लेकिन उम्र के साथ ख्वाहिशों और सपनों की दीवारें इतनी ऊँची होती जाती हैं कि उनको चढ़ते चढ़ते हम जीवन की छोटी छोटी पर महत्वपूर्ण खुशियाँ पीछे छोड़ देते हैं. बहुत ही भावपूर्ण अभिव्यक्ति..आभार

    ReplyDelete
  19. sundar bahut sundar

    "jarurate hain ki puri hi nhi hoti,

    badhai

    ReplyDelete
  20. वाह
    ...
    मैं भी हर रात सपने सजाती हूँ... पर मासूमियत कायम रहती है अगली रात तक...

    ReplyDelete
  21. bachapan ki bat hi aur hai aur unke masoom sapne....aaaj sab hote hue bhi vaise sapne nahi na vo masoomiyat....

    ReplyDelete

 
Top