मेरे घरौंदे से तेरे नाम की खुशबू आती है
बंद कमरों से तेरे नाम की सदा आती है
मैं अनसुना करूँ तो कैसे ?
इस बेचैन रूह को क्या परखना ...

रश्मि प्रभा





============================================================

परख लूं ...

फासले आ गये,
मुहब्‍बत में कैसे,
जरूर


इक-दूसरे से
तुमने कुछ
छिपाया होगा …!!


भाग रही थी अपने आप से,
छुपा रही थी वह
खुद को
सवालों से
जिनका जवाब उसे पता था
पर वह बताकर
अपमान नहीं करना चाहती थी
अपने विश्‍वास का …!!


आंखे आंसुओं से सजल
हो उठती थीं जब


कोई कहता था
परख लूं तेरी प्रीत को …!!

() सीमा सिंघल
बहुत ही साधारण सा परिचय है मेरा ..........
सीमा सिंघल जन्‍म स्‍थान रीवा (मध्य प्रदेश) में, राजनीति शास्‍त्र से एम.ए. की शिक्षा प्राप्त की है। वर्तमान में एक नि‍जी सस्‍थान में नि‍जसचिव के पद पर कार्यरत हूं ........कविताएं लिखने का शौक तो था ही अब ब्‍लाग जगत से भी परिचय हो चुका है और आपके सामने आने का अवसर भी यही माध्‍यम बना ‘सदा’ के नाम पर मेरा ब्‍लाग है ।
मेरे ब्‍लाग का पता है ..........
http://sadalikhna.blogspot.com/

17 comments:

  1. सुन्दर रचना प्रस्तुति....आभार

    ReplyDelete
  2. बहुत भावमयी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  3. प्रीत को हमेशा ही परीक्षा से गुज़रना पड़ता है ... पर क्या ऐसा कुछ है जो प्रीत को परख सके ?
    सुन्दर कृति ..

    ReplyDelete
  4. रश्मि जी ,वाह इतने कम शब्दों में सब कुछ कह दिया आप ने
    सीमा जी ,की कविता भी बहुत नाज़ुक और सच्चे भावों को बड़े सधे हुए तरीक़े से अभिव्यक्त कर रही है
    बहुत ख़ूब!

    ReplyDelete
  5. आंखे आंसुओं से सजल
    हो उठती थीं जब


    कोई कहता था
    परख लूं तेरी प्रीत को …!!

    आह! अब इससे बडा कहर और क्या होगा प्रीत पर?
    दिल मे उतर गयीं ये पक्तियां।

    ReplyDelete
  6. बहुत भावमयी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  7. सुन्दर रचना प्रस्तुति....आभार

    ReplyDelete
  8. कोई कहता था
    परख लूं तेरी प्रीत को …!!
    parakhana mat parakhane se
    koi apna nahi rahata .
    badi sunder gazal hai kabhi mauka mile to sun ne ki koshish kariye ga .

    ReplyDelete
  9. बहुत ही प्यारी रचनाएँ... खुद को परखू कैसे जब हममें कुछ भी तेरा-मेरा नहीं...

    ReplyDelete
  10. दिल की कलम से कागज़ पर उतरते आप के शब्द ...

    बहुत ही सुन्दर रचना है ....

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुन्दर रचना.

    ReplyDelete
  12. कोई कहता परख लूं प्रीत को ...
    मुशिकल दौर होता है ये ...
    अच्छी कविता !

    ReplyDelete
  13. रश्मि दी, का बहुत-बहुत आभार मुझे यहां तक लाने का, आप सभी की शुक्रगुजार हूं इस रचना को पसन्‍द करने के लिए ...।

    ReplyDelete
  14. "आंखे आंसुओं से सजल
    हो उठती थीं जब
    कोई कहता था
    परख लूं तेरी प्रीत को …!!"
    man se kahi gai baatein.bhwook karti rachana.

    ReplyDelete
  15. रचना सच में बेहद खूबसूरत है

    ReplyDelete

 
Top